Breaking News

Almora breaking: रिटायर्ड कर्मचारी के खाते से 12 लाख की ठगी, 3 आरोपी गिरफ्तार.. मामला जानकर उड़ जाएंगे आपके होश

अल्मोड़ा। जिले में साइबर ठगी का एक बड़ा मामला सामने आया है। यहां कूटरचित आधार कार्ड व सिम के माध्यम से साईबर ठगों ने रक्षा मंत्रालय से रिटायर्ड एक कर्मचारी के खाते से 12 लाख की रकम हड़प ली। पुलिस ने मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है। आरोपियों का एक बड़ा गिरोह होने का अंदेशा जताया जा रहा है।

दरअसल, 29 जनवरी को ग्राम च्याली, छानागोलू निवासी रमेश चन्द्र पुत्र शिवदत्त ने थाना द्वाराहाट में तहरीर सौंपी। पीड़ित ने तहरीर में बताया कि 10 जनवरी से 19 जनवरी के बीच में उसके खाते से करीब 12 लाख की रकम हड़प ली। इस खबर से पुलिस में हड़कंप मच पड़ा। आनन—फानन में पुलिस ने विभिन्न धाराओं में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। मामले की विवेचना प्रभारी निरीक्षक कोतवाली रानीखेत राजेश कुमार यादव को सौंपी गई। मामले के खुलासे के लिए चार टीमें गठित की गई। कोतवाल राजेश कुमार ने बताया कि पीड़ित रक्षा मंत्रालय से रिटायर्ड है।

ऐसे की ठगी—
इस पूरे घटना को उत्तर प्रदेश के संभल जिले से अंजाम दिया गया। जहां साइबर ठगों ने पीड़ित का कूटरचित आधार कार्ड दिखाकर वोडाफोन रिटेल स्टोर से सिम खरीदी। (जो मोबाइल नंबर पीड़ित के अकाउंट में लिंक था)। जिसके बाद यूनो एप्प एसबीआई डाउनलोड कर इस धोखाधड़ी को अंजाम दिया गया। आरोपियों ने पीड़ित के खाते से करीब 12 लाख निकाल कर अलग—अलग खातों में ट्रांसफर किए गए। जिसके आधार पर पुलिस टीम द्वारा द्वारा लोकेशन के आधार पर उक्त तीनों साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया।

जांच में ये तथ्य आएं सामने —
सीओ ऑपरेशन/साईबर ओशिन जोशी ने बताया कि पीड़ित के अकाउंट में लिंक मोबाइल नंबर के जांच के दौरान पाया कि वोडाफोन रिटेलर विशेष कुमार शर्मा, निवासी उत्तर प्रदेश द्वारा पीड़ित के मोबाइल नंबर को बिना सत्यापन किए सिम बदलकर आरोपी (जिसकी गिरफ्तारी होनी है) को दे दी। वादी का मोबाइल नंबर का सिमेक्स ग्लोबल इण्टर प्राइजेज सम्भल, उत्तर प्रदेश से होना पाया गया। इसके बाद दूसरा आरोपी अमन कुमार पुत्र विजय कुमार, निवासी उत्तर प्रदेश (जो वोडाफोन कंपनी में कर्मचारी है) ने पीड़ित के पहले मोबाइल नंबर की केवाईसी से मिलान न कर लापरवाही से सिमेक्स प्रक्रिया पास कर दी। इस दौरान जांच में मामले का तीसरा आरोपी धीरज कुमार, निवासी उत्तर प्रदेश के खाते में 6 लाख 75 हजार रूपये ट्रांसफर होना पाया गया।

कूटरचित आधार कार्ड दिखाने व सिम लेने वाले आरोपी की फिलहाल गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। आशंका जताई जा रही है कि यह गिरोह काफी बड़ा है। ​पुलिस पीड़ित के खाते से हुए अन्य ट्रांजेक्शन की जांच कर रही है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है।

 

Check Also

महिला की बच्चेदानी में था 8 किलो का ट्यमूर… अल्मोड़ा जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने भगवान बनकर ऐस बचाई जान

🔊 इस खबर को सुने अल्मोड़ा: अकसर आपने यह कहावत सुनी होगी कि डॉक्टर भगवान …