Breaking News

Almora: प्राथमिक शिक्षक संघ ने पदोन्नति समेत विभिन्न मांगों को लेकर सीईओ को सौंपा ज्ञापन

अल्मोड़ा। उत्तराखंड राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला इकाई ने पदोन्नति समेत विभिन्न मांगों को लेकर मुख्य शिक्षा अधिकारी सुभाष भट्ट को ज्ञापन सौंपा। सदस्यों ने कहा कि संगठन लंबे समय से शिक्षकों की समस्याओं के निस्तारण की मांग करते आ रहा है। लेकिन विभागीय अधिकारियों द्वारा उनकी मांगों पर कार्यवाही नहीं जा रही है, जिससे संगठन में नाराजगी है। सदस्यों ने संगठन की सभी मांगों पर शीघ्र कार्यवाही की मांग की है।

ज्ञापन में सदस्यों ने कहा कि शासन की ओर से चयन वर्ष 2021 में समस्त अर्हता धारकों की पदोन्नति करने हेतु आदेश विभागाध्यक्षों को निर्गत किए गये, लेकिन जिले में चयन वर्ष 2021 के आधार पर अद्यतन पदोन्नति नहीं की गई है, जो कि अर्हता धारक शिक्षकों के हितों पर कुठाराघात है। पदाधिकारियों ने शिक्षकों की वरिष्ठता सूची के अनुसार पदोन्नति प्रक्रिया प्रारंभ करते हुए जनपद में वास्तविक रिक्त पदों के सापेक्ष अर्हता धारक शिक्षकों की पदोन्नति करने की मांग की है। सीईओ सुभाष भट्ट ने पदाधिकारियों को जल्द ही मामले में कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

यह हैं मांगें-

इसके अलावा संगठन द्वारा ससमय वेतनमान (चयन/पदोन्नत वेतनमान) की स्वीकृति हेतु विकासखंड एवं जनपद स्तर पर समिति की बैठक कर अर्ह शिक्षकों हेतु स्वीकृति पत्र निर्गत किये जाने तथा संबंधित को उसके लाभ प्रदान किये जाने की मांग की।

परिषदीय सेवा काल की सामान्य भविष्य निधि की धनराशि राजकीयकरण के बाद अद्यतन शिक्षकों के महालेखाकार द्वारा आवंटित खातों में स्थानांतरित नहीं की गई है जिससे संबंधित को ब्याज का नुकसान हो रहा है।

नियुक्ति, पदोन्नति, स्थानांतरण, पारस्परिक स्थानांतरण एवं समायोजन हेतु निर्धारित प्रक्रिया (सेवा नियमावली, स्थानांतरण एक्ट) अनुरूप ही प्रक्रिया संपादित की जाए।

जनपद अंतर्गत स्थित कई विद्यालयों के कोटिकरण को कमेटी द्वारा दुर्गम के लिए संस्तुति प्रदान करने के उपरांत भी लिपिकीय त्रुटि के कारण अद्यतन सुगम ही बने हुए हैं जैसे राजकीय प्राथमिक विद्यालय गुरना विकासखंड हवालबाग तथा राजकीय प्राथमिक विद्यालय मलेराखनून विकासखंड हवालबाग के पुनः खुलने के उपरांत कोटीकरण नहीं किया गया है जिसे वर्तमान में पोर्टल पर उक्त विद्यालय का कोटिकरण नहीं दिखा रहा है, जब कि सेवित क्षेत्र में अन्य विद्यालय दुर्गम हैं। अतः उक्त प्रकार की कोटिटरण विसंगतियों को दूर करने हेतु यथोचित कार्यवाही की जाए।

विगत शैक्षिक सत्र में पारस्परिक स्थानांतरण के अंतर्गत कोई स्थानांतरण नहीं किए गए, जबकि इच्छित शिक्षकों द्वारा अपने आवेदन पत्र सक्षम अधिकारी से अग्रसारित कर जनपद मुख्यालय को प्रेषित किए गए थे। स्थानांतरण एक्ट के आधार पर पारस्परिक स्थानांतरण वर्ष भर चलने वाली प्रक्रिया है, लेकिन इस जनपद में बिना किसी उचित कारण के प्रक्रिया को स्थगित रखा गया है जिस कारण शिक्षकों को लाभ नहीं मिल पा रहा है। तत्काल इस प्रक्रिया के अंतर्गत पारस्परिक स्थानांतरण प्रक्रिया को गतिमान करते हुए आदेश निर्गत किए जाने की मांग की है।

संकुल समन्वयक के पदों में शासनादेश के अनुसार कार्यवाही की जाए। कुछ विकास खंडों में अध्यापकों को अपने मूल कार्यरत संकुल केंद्रों से अन्यत्र संकुल केंद्रों का समन्वयक नियुक्त किया गया है। जबकि शासन आदेश में स्पष्ट व्यवस्था है कि संकुल केंद्र में कार्यरत शिक्षक कोई प्रभार दिया जाए।

विद्यालय प्रबंधन समिति के एस.एन.ए खाते से तृतीय पक्ष चैक निर्गत
नहीं कर चैक बैंक के पक्ष में निर्गत कर चैक के साथ संबंधित फर्मों के खातों का उल्लेख करते हुए NEFT के माध्यम से संबंधित खातों में अपेक्षित धनराशि हस्तांतरित की जानी की सूचना सहायक वित्त एवं लेखा अधिकारी महोदय द्वारा 31 मार्च 2022 के बाद दी गई है, जबकि कतिपय विद्यालयों से 31 मार्च को ही चैक निर्गत किए जा चुके है। साथ ही पुस्तकालय के लिए आई धनराशि पर बैंक कमीशन भी काटा गया है जिससे स्वीकृत धनराशि से कम धनराशि बैंक में अवशेष है। इस मामले में कार्यवाही की जाई।

जनपद में कार्यरत कतिपय शिक्षकों के गोल्डन कार्ड अभी तक नहीं बने हैं जबकि उक्त शिक्षकों की मासिक किश्त की कटौती उनके वेतन से की जा रही है, मामले में उचित कार्यवाही कर गोल्डन कार्ड बनवाने हेतु विकासखंड स्तर पर शिविर लगाए जाएं। जिससे कि शिक्षकों को उक्त स्वास्थ्य योजना का लाभ मिल सके।

जिले के अंतर्गत कुछ ऐसे प्राइवेट विद्यालय विद्यालय संचालित किए जा रहे हैं जिनमें कुछ कक्षाओं के संचालित करने के लिए मान्यता नहीं है या फिर विद्यालय को ही मान्यता नहीं है ऐसे विद्यालयों को चिन्हित कर उन पर कार्रवाई करने की कृपा करें।

इस दौरान ​उत्तराखंड राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष किशोर जोशी, जिला मंत्री जगदीश भंडारी, कोषाध्यक्ष मनोज बिष्ट, प्रकाश जोशी, गिरिजा भूषण जोशी, चंदन बिष्ट, सुरेंद्र भंडारी, अमजद खान आदि मौजूद रहे।

Check Also

Ankita Murder Case: क्यों हुई अंकिता भंडारी की हत्या? डीजीपी ने किया बड़ा खुलासा

🔊 इस खबर को सुने इंडिया भारत न्यूज डेस्कः ऋषिकेश में 19 साल की अंकिता …