Breaking News
train
train, p.c- zee news

Agnipath Protest: ट्रेन जलाना आसान लेकिन क्या आपको पता है इसकी एक कोच की कीमत, यहां जान लीजिए

इंडिया भारत न्यूज डेस्क
भारतीय सेना में भर्ती की नई स्कीम अग्निपथ को लेकर देश के कई राज्यों में बवाल हुआ है। आक्रोशित युवाओं के हिसंक रूप से राष्ट्रीय संपत्ति को भारी क्षति हुई है। प्रदर्शनकारियों ने कई ट्रेनों को आग के हवाले कर दिया।

ट्रेनों में आगजनी की घटना के बाद रेल मंत्रालय ने प्रदर्शनकारियों से शांति बरतने रेलवे की संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचाने की अपील की है। रेल मंत्रालय के अनुसार, रेलवे के 24 अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन चल रहा है। साथ ही 340 ट्रेनें प्रभावित हुई है। इस हिंसक आंदोलन के कारण रेलवे को बीते दो दिनों में करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है।

ट्रेन के एक इंजन बनाने में आता है करोड़ों रूपये का खर्च

रेलवे मंत्रायल से जुड़े सूत्रों के अनुसार, ट्रेन के दो हिस्से होते हैं इसमें पहला हिस्सा इंजन और दूसरा कोच होता है। इंजन ट्रेन का सबसे महंगा हिस्सा होता है। ट्रेन का इंजन बनाने में करीब 20 करोड़ रुपये का खर्च आता है। एक डुअल मोड लोकोमोटिव की कीमत करीब 18 करोड़ रुपये होती है जबकि 4500 हॉर्स पावर के डीजल लोकोमोटिव की कीमत करीब 13 करोड़ रुपये बैठती है। इंजन की कीमत उसकी क्षमता पर निर्भर करती है।

वहीं, जहां तक कोच की बात है तो यह यात्रियों की सुविधा के अनुसार अलग-अलग तरह के होते हैं। इन सुविधाओं के मुताबिक इनकी कीमत होती है। ट्रेन में स्लीपर, एसी और जनरल अलग-अलग कोच होते हैं। एक एसी कोच को बनाने की लागत करीब दो करोड़ रुपये से अधिक होती है। वहीं, स्लीपर कोच बनाने की कीमत 1.25 करोड़ रुपये बैठती है। जबकि जनरल कोच बनाने का खर्च करीब एक करोड़ रुपए तक आता है।

जानकारी के अनुसार, एक एक्सप्रेस ट्रेन में करीब 22 से 24 डिब्बे होते हैं। इस लिहाज से 24 डिब्बों की कीमत दो करोड़ रुपये प्रति कोच के हिसाब से 48 करोड़ रुपए बैठेंगी। अगर इसमें इंजन की कीमत भी जोड़ दी जाए तो एक पूरी ट्रेन करीब 68 करोड़ रुपये होती है। इसी तरह सामान्य से एक्सप्रेस ट्रेन बनाने का खर्च 50 करोड़ रुपये से 100 करोड़ रुपये के बीच आती है।

Check Also

Featured Video Play Icon

अल्मोड़ा से बड़ी खबर: गुलदार ने दिनदहाड़े 3 लोगों पर किया जानलेवा हमला, लोगों में दहशत

🔊 इस खबर को सुने अल्मोड़ा: उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में गुलदार का आतंक इस …