Breaking News

पिता के इलाज के लिए चंदा मांग रही मासूम बेटियों के लिए सीएम धामी आए आगे, उठाया ये बड़ा कदम

डेस्क। हल्द्वानी में पिता के इलाज के लिए दो मासूम बेटिया चंदा मांग रही है। इसकी जानकारी मिलने पर सीएम पुष्कर सिंह धामी ने बड़ा दिल दिखाया है। सीएम ने मासूम बेटियों के पिता के इलाज के आला अधिकारियों को तुरंत उचित इंतजाम के निर्देश दिए है। सीएम के इन कदम के बाद सोशल मीडिया में लोग उनकी जमकर सराहना कर रहे है।

सीएम ने जिलाधिकारी नैनीताल को तुरंत मदद के निर्देश दिए थे। डीएम के आदेश पर उपजिलाधिकारी हल्द्वानी मनीष कुमार सिंह और सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह ने सीएसआर (कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी) फंड के माध्यम से पीड़ित परिवार को एक लाख रुपए की त्वरित मदद पहुंचाई।

सीएम धामी ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट में लिखा है कि, ‘हल्द्वानी में पिता के इलाज के लिए दो मासूम बेटियों द्वारा चंदा मांगने की जानकारी सोशल मीडिया के ज़रिए प्राप्त हुई थी। इस संबंध में त्वरित कार्रवाई करते हुए मरीज़ गोपाल शर्मा जी के इलाज हेतु उचित इंतज़ाम किए जा रहे हैं व उपचार में कोई दिक्कत ना आए, इसके लिए स्वास्थ्य सचिव को जरूरी दिशा-निर्देश दे दिए हैं। दिल्ली में तैनात एडिशनल रेजिडेंट कमिश्नर को भी सफदरजंग अस्पताल में जाकर वहां तैनात चिकित्सकों से वार्ता कर, मरीज को बेहतर से बेहतर इलाज उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया गया है। मेरी ईश्वर से प्रार्थना है कि वो श्री गोपाल शर्मा जी को शीघ्र से शीघ्र स्वस्थ बनाएं। पिता के ठीक होने तक परिजन चाहें तो बच्चों को SOS Children’s Village में रख सकते हैं, यहां बच्चों की उचित देखभाल की जाएगी व उन्हें किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।’

पिता के इलाज के लिए दर दर भटक रही पत्नी व बेटियां
डारिया धान मिल निवासी गोपाल शर्मा को कुछ दिन पहले ब्रेन हेमरेज हो गया। उन्हें इलाज के लिए स्थानीय लोग सुशीला तिवारी अस्पताल ले गए। सुशीला तिवारी अस्पताल से डॉक्टरों ने गोपाल को निजी हॉस्पिटल में रेफर कर दिया। वहां सामाजिक संगठन और स्थानीय लोगों की मदद से इलाज में करीब 2 लाख का खर्च हुआ, लेकिन स्थिति इतनी खराब हुई कि गोपाल शर्मा को दिल्ली भेजना पड़ा। वहीं, दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में गोपाल शर्मा का इलाज चल रहा है। वहां भी उनकी दो सर्जरी हो चुकी हैं, लेकिन उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। वे अभी भी आईसीयू में भर्ती हैं। मौत और जिंदगी के बीच जूझ रहे, लेकिन पैसा नहीं होने पर चलते उचित इलाज नहीं मिल पा रहा है। गोपाल शर्मा की पत्नी उनकी देखभाल कर रही हैं। जबकि उनकी 7 और 8 वर्षीय दो बेटियां पिता के इलाज में मदद की गुहार लगाते हए दर-बदर भटक रही हैं।

Check Also

Almora: धूमधाम से मनाया गया सरस्वती शिशु विद्या मंदिर नृसिंहबाड़ी का वार्षिकोत्सव

🔊 इस खबर को सुने विद्यालय में प्रवेश प्रक्रिया शुरू अल्मोड़ाः नगर के सरस्वती शिशु …