Breaking News

शिक्षक डॉ. पवनेश की पुस्तक ‘प्रेमचंद के कथा साहित्य का सामाजिक.सांस्कृतिक अध्ययन’ का लोकार्पण

अल्मोड़ा। महान उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद की जयंती के अवसर पर डॉ. पवनेश ठकुराठी की शोध पुस्तक ‘प्रेमचंद के कथा साहित्य का सामाजिक.सांस्कृतिक अध्ययन’ का लोकार्पण एसएसजे विश्वविद्यालय के शोध निदेशक व हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो. जगत सिंह बिष्ट ने किया। डॉ. ठकुराठी जीआईसी नाई में हिंदी विषय के प्रवक्ता पद पर कार्यरत है।

लोकार्पण में प्रो. जगत सिंह बिष्ट ने कहा कि प्रेमचंद हिंदी साहित्य में युग प्रवर्तक कथाकार के रूप में जाने जाते हैं। वे पहले ऐसे कथाकार हैं जिन्होंने आम व्यक्ति को कहानियों व उपन्यासों के केंद्र में रखा। यही कारण है कि उनका साहित्य आज भी प्रासंगिक है। उन्होंने कहा कि डॉ. पवनेश द्वारा लिखी पुस्तक कथा सम्राट प्रेमचंद के कथा साहित्य के सामाजिक.सांस्कृतिक संदर्भों का व्यापक विवेचन.विश्लेषण करती है।

लेखक डॉ. पवनेश ठकुराठी ने कहा कि यह पुस्तक एक शोध ग्रंथ है, जो प्रेमचंद के समग्र कथा साहित्य को केंद्र में रखकर लिखा गया है। इस ग्रंथ में प्रेमचंद द्वारा रचित 15 उपन्यासों और 301 कहानियों को अध्ययन का आधार बनाया गया है। उन्होंने दावा किया कि प्रेमचंद के समग्र कथा साहित्य को केंद्र में रखकर लिखा गया यह अपनी तरह का पहला ग्रंथ है।

लोकार्पण कार्यक्रम में डॉ. हयात सिंह रावत, ललित तुलेरा, चंदन पांडे, शशि शेखर जोशी, दीपा बिष्ट, दिग्विजय सिंह, महेंद्र सिंह आदि उपस्थित थे।

Check Also

विस सत्र 2 दिन में खत्म करने पर बिफरे विधायक मनोज तिवारी, सरकार पर लगाये यह आरोप

🔊 इस खबर को सुने अल्मोड़ा: उत्तराखंड का शीतकालीन विधानसभा सत्र 2 दिन में खत्म …