Breaking News

अल्मोड़ा: कार्यशैली से पीआरओ हेमा ने जीता अधिकारियों का दिल, विदाई समारोह में पुलिसकर्मी हुए भावुक.. पढ़ें पूरी खबर

अल्मोड़ा: कहते हैं कि किसी अधिकारी व कर्मचारी का कार्यकाल कैसा रहा, यह देखना हो तो उसका विदाई समारोह देखो। यह समारोह उस कार्मिक के कार्यकाल और उसके कार्यो का आईना होता है। कुछ ऐसा ही नजारा सोमवार को अल्मोड़ा पुलिस लाईन के सभागार में देखने को मिला। पुलिस अधिकारी हो या कर्मचारी विदाई समारोह में हर किसी की आंखें नम नजर आई। यही नहीं कई पुलिसकर्मी संबोधन के दौरान अपने आंसू रोक नहीं पाए।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पीआरओ के पद पर तैनात हेमा ऐठानी का करीब 15 साल के बाद अल्मोड़ा से नैनीताल जिले में स्थानांतरण हो गया है। सोमवार को पुलिस लाईन सभागार में एसएसपी प्रदीप कुमार रॉय की मौजूदगी में उन्हें भावभीनी विदाई दी गई। इस दौरान समस्त क्षेत्राधिकारी, प्रतिसार निरीक्षक, निरीक्षक स्थानीय अभिसूचना इकाई, जिला मुख्यालय के पत्रकार, थाना प्रभारी, शाखा प्रभारी सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी विदाई समारोह में मौजूद रहे।

आरक्षी हेमा ऐठानी ने एक सफल कार्मिक के रूप में अपनी छाप छोड़ी है। उन्होंने अपने कार्यशैली व मधुर व्यवहार से न सिर्फ पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों का दिल जीता बल्कि मीडिया व पुलिस के बीच समन्वय बनाने में भी एक सफल पीआरओ की भूमिका निभाई। साथ ही अपने उत्कृष्ट कार्यों के लिए वह समय-समय पर पुलिस विभाग में जनपद स्तर से राज्य स्तर तक कई बार सम्मानित भी हुई।

बता दे कि पीआरओ के पद पर रहते हुए हेमा ऐठानी ने न सिर्फ अपने जिम्मेदारियों का भलीभांति निर्वहन किया बल्कि कोरोना काल में जब लोग राशन, दवा जैसी मूलभूत आवश्यकतों के लिए परेशान थे ऐसे में वह जन जन की आवाज बनी और उन्होंने लगातार ​जरूरतमंदों की गुहार को अपने अधिकारियों तक पहुंचाने का काम किया और अधिकांश लोगों की जरूरतमंद चीजें पुलिस टीम के माध्यम से उन तक पहुंचाई।

व्यक्ति के कार्य ही उसको पहचान व सम्मान दिलाते है: एसएसपी

एसएसपी प्रदीप कुमार रॉय ने अपने संबोधन कहा कि पुलिस की ड्यूटी काफी चुनौतीपूर्ण होती है अगर वह महिला हो तो यह और भी चुनौतीपूर्ण हो जाता है क्योकि उन्हें पारिवारिक दायित्वों का भी निर्वहन करना होता है। हेमा ऐठानी द्वारा पीआरओ की ड्यूटी के अतिरिक्त, अपने सीनियर अधिकारियों द्वारा दिये गये टास्कों को पूर्ण करना हो, मीडिया मैनेजमैण्ट, डे-केयर, सीनियर सीटिजन व आमजनमानस के साथ एक अच्छा तालमेल रखते हुए सभी दायित्वों का बखूबी निर्वहन किया गया। इसके अतिरिक्त उपवा के तहत भी इनके द्वारा बेहतरीन कार्य करते हुए पुलिस परिवार की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सार्थक प्रयास किये गये, जो कि सराहनीय है। एसएसपी ने कहा कि सम्मान दिलाने के लिए कंधो पर सितारे व पद होना जरुरी नहीं है आपके द्वारा किये जा रहे कार्य आपको सबसे अलग पहचान, सम्मान दिला सकते हैं।

अधिकारियों व कर्मचारियों के हेमा के कार्यों को सराहा

इस दौरान सीओ आपरेशन ओशिन जोशी, निरीक्षक एलआईयू कमल पाठक, थानाध्यक्ष भतरौजखान निरीक्षक संजय पाठक, थानाध्यक्ष द्वाराहाट राजेन्द्र सिंह बिष्ट, प्रभारी एसओजी सुनील धानिक, प्रभारी एएनटीएफ सौरभ भारती, कांस्टेबल कविन्द्र देउपा मीडिया सैल व मीडिया से दयाकृष्ण कांडपाल ने समारोह में अपने विचार रखें। सभी ने उनकी कुशल कार्यशैली व मीडिया व पुलिस के बीच समन्वय तथा फरियादियों की समस्याओं के प्रति उनके प्रयासों की भूरि भूरि प्रशंसा की। अपने वक्तव्य के दौरान कई पुलिस अधिकारी व कर्मचारी भावुक हो उठे।

अंत में पीआरओ हेमा ऐठानी ने जिले में नियुक्ति के दौरान किये गये कार्यो, अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि, ‘मैंने उच्चाधिकारियों के मार्गदर्शन, प्रेरणा से सीख लेते हुए पुलिस विभाग में जिले में 15 वर्ष की सेवा की। जिसमें मेरे द्वारा विभिन्न शाखाओं में कार्यरत रहते हुए कई चुनौतीपूर्ण दायित्वों का निर्वहन किया गया।’ उन्होंने कहा कि वह अपनी सफलता, सम्मान का श्रेय पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों व सहकर्मियों सहित अल्मोड़ा नगर की सम्मानित जनता, वरिष्ठ जनों, महिलाओं, युवाओं व जनपद के विभिन्न संगठनों द्वारा दिये गये अमूल्य सहयोग, सुझावों को देती है। वही, पुलिस के कार्यों व जागरूकता कार्यक्रमों को जनता तक पहुंचाने के लिए उन्होंने सभी मीडियाकर्मियों का आभार जताते हुए कहा कि पीआरओ पद पर रहते हुए उन्हें सभी मीडियाकर्मियों का निरंतर सहयोग मिला। उन्होंने कहा कि वह आशा करती है आगे भी पुलिस विभाग को मीडियाकर्मियों का इसी तरह सहयोग मिलेगा।

कार्यक्रम का संचालन उपनिरीक्षक दामोदर कापड़ी ने किया।

 

हमसे व्हाट्सएप पर जुड़ें

https://chat.whatsapp.com/IZeqFp57B2o0g92YKGVoVz

हमसे यूट्यूब पर जुड़ें

https://youtube.com/channel/UCq06PwZX3iPFsdjaIam7DiA

Check Also

महिला की बच्चेदानी में था 8 किलो का ट्यमूर… अल्मोड़ा जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने भगवान बनकर ऐस बचाई जान

🔊 इस खबर को सुने अल्मोड़ा: अकसर आपने यह कहावत सुनी होगी कि डॉक्टर भगवान …