Breaking News

यहां पानी को लेकर सड़क पर उतरे ग्रामीण, जनाक्रोश रैली निकाल जताया विरोध

मांग नहीं मानने पर ग्रामीणों ने दी आंदोलन की चेतावनी

इंडिया भारत न्यूज़ डेस्क(IBN): चंपावत जिले के पाटी ब्लॉक के गागर समेत तीन गांवों की पेयजल योजना से एक और अन्य गांव को पानी देने की भनक लगते ही गागर के ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया। सैकड़ों की संख्या में लोगों ने गांव की सड़क पर पहुंच जल संस्थान और पेयजल निगम के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। तीन किमी दूर तक विभाग के खिलाफ जनाक्रोश रैली निकाल कर कड़ा विरोध जताया। जबरन अन्य गांव को पानी देने पर पेयजल निगम और जल संस्थान कार्यालय पर धरना प्रदर्शन और भूख हडताल करने की चेतावनी दी।

सोमवार को गागर स्थित गर्ग ऋषि मार्ग के समीप सड़क पर प्रदर्शन कर रहे लोगों ने कहा कि केदारनाथ के नीचे गधेरे से किमाड़, रीठाखाल, बोराचापड और अंतिम ग्राम पंचायत गागर के लिये पेयजल योजना बनी है लेकिन जल संस्थान और पेयजल निगम मिली भगत कर इसी पेयजल लाइन के बीच से एक अन्य गांव के लिये पानी जोड़ने की तैयारी कर रहे हैं।

आक्रोशित ग्रामीणों ने कहा पहले ही जल संस्थान योजना से जुडे गांवों तक पर्याप्त पानी नहीं पहुंचा पा रहा है लेकिन एक अन्य गांव को बीच से ही पानी देने पर रीठाखाल और गागर में भीषण जल संकट छा जाएगा। ग्रामीणों ने मांग नहीं मानने पर दोनों विभागों के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दी है। ग्रामीणों ने इस बारे में जल संस्थान को सूचना दे दी है।

गागर में ग्रामीणों ने गर्ग ऋषि आश्रम को जाने वाले मार्ग से गंगनाथ मंदिर तक और फिर वापस डेढ़ किमी दूर सरकारी अस्पताल तक जनाक्रोश रैली निकाली।

गागर गांव के लिये एकल पेयजल योजना बनाने की मांग

ग्रामीण ने कहा कि गागर में पेयजल कनेक्शन के लिए 57 स्पेशन पोस्ट व 13 सार्वजनिक पोस्ट (स्टैंड) है। तीन गांवों के लिये बनी पेयजल योजना में सबसे अधिक स्पेशल और स्टैंड पोस्ट अंतिम गांव गागर में हैं। इसके बाद भी गागर के लिये अलग पेयजल योजना नहीं है। ग्रामीणों ने गांव के लिये एकल पेयजल योजना बनाने की मांग की है।

ये रहे मौजूद

प्रदर्शन करने वालों में ग्राम प्रधान गागर तुलसी देवी, गिरीश भट्ट, सामाजिक कार्यकर्ता परमानंद उपाध्याय, पूर्व सरपंच लीलाधर भट्ट, पूर्व प्रधान प्रेम राम, दीवान राम, प्रकाश भट्ट, नरोत्तम भट्ट, केशव दत्त, लछम दत्त, जगदीश राम, जोशी, पीताम्बर जोशी, हीरा बल्लभ, नवीन भट्ट, बसंती, हेमा, दीपा, भागरथी, दुर्गा, नीलावती, रेवती, माधवी, तुलसी देवी, जीवन कुमार, सावरती, दीपक, पंकज, जीवन भट्ट, योगेश समेत 100 से अधिक ग्रामीण मौजूद रहे।

 

हमसे व्हाट्सएप पर जुड़ें

https://chat.whatsapp.com/IZeqFp57B2o0g92YKGVoVz

हमसे यूट्यूब पर जुड़ें

https://youtube.com/channel/UCq06PwZX3iPFsdjaIam7DiA

Check Also

महिला की बच्चेदानी में था 8 किलो का ट्यमूर… अल्मोड़ा जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने भगवान बनकर ऐस बचाई जान

🔊 इस खबर को सुने अल्मोड़ा: अकसर आपने यह कहावत सुनी होगी कि डॉक्टर भगवान …