Breaking News

Ankita Bhandari Case: नहीं सूखे माता-पिता के आंसू, महिला एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्या ने दिया यह बयान

 

अल्मोड़ा: उत्तराखंड का बहुचर्चित अंकिता भंडारी हत्याकांड प्रकरण को डेढ़ साल हो चुका है। डेढ़ साल बाद भी अंकिता के माता-पिता के आंखों में आंसू हैं। बेटी खोने के दर्द से जूझ रहे अंकिता के माता-पिता अपनी लाडली को आज भी न्याय दिलाने के लिए लड़ रहे हैं। अंकिता के माता-पिता मामले में कई बार सरकार व सिस्टम पर आरोपियों को बचाने समेत कई गंभीर आरोप लगा चुके है।

इन दिनों अल्मोड़ा भ्रमण पर पहुंची महिला एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्या ने मीडिया को दिए बयान में कहा कि, अंकिता भंडारी प्रकरण में प्रदेश सरकार की नियत व मंशा साफ है। उन्होंने कहा कि अगर हमें यह मामला छिपाना होता या रोकना होता तो मामला न्यायालय की प्रक्रिया में जाता ही नहीं। सरकार ने इस प्रकरण में त्वरित एक्शन लिए, जिसके चलते मामला आज न्यायालय में है। इसलिए इस पर टिप्पणी करना उचित नहीं है। सरकार को कोर्ट पर पूरा भरोसा है।

वही, वीआईपी के नाम का खुलासा नहीं होने के सवाल पर मंत्री ने कहा कि, राजनीतिक तरीके से कोई किस मुद्दे को किस स्तर तक ले जाए, विपक्ष अपने स्तर पर उस पर काम करता है। लेकिन अंकिता को न्याय मिलना चाहिए, इसके लिए सरकार ने सभी तथ्य कोर्ट के सामने रखे है। अब कोर्ट इसका निर्णय व परीक्षण करेगा और कोर्ट जो दिशा निर्देश देता है वह हम सभी को स्वीकार करना चाहिए।

ये है मामला-

पौड़ी जिले के श्रीकोट की रहने वाली अंकिता भंडारी यमकेश्वर क्षेत्र स्थित वनंत्रा रिसॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट थी। 19 साल की अंकिता भंडारी 18 सितंबर 2022 को अचानक वनंत्रा रिजॉर्ट से लापता हो गई थी। इसके बाद वनंत्रा रिजॉर्ट के मालिक पुलकित आर्य ने अंकिता के घरवालों को गुमराह करने के लिए गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। अंकिता का शव करीब एक हफ्ते बाद 24 सितंबर को चीला नहर से बरामद हुआ। पुलकित आर्य और उसके दो साथी अंकित गुप्ता और सौरभ भास्कर पर आरोप है कि तीनों ने अंकिता को चीला नहर में धक्का दे दिया था। पुलकित आर्य पर आरोप है कि वो अंकिता भंडारी से रिजॉर्ट में गलत काम कराना चाहता था, जिसके लिए अंकिता भंडारी ने साफ इनकार कर दिया था।

 

 

Check Also

कुमाउं में बड़ा सड़क हादसा, पर्यटकों की कार गहरी खाई में गिरी, मची चीख-पुकार

-हादसे की जांच में जुटी पुलिस, घायलों की स्थिति गंभीर   नैनीताल: उत्तराखंड के नैनीताल …