Breaking News
Oplus_131072

अल्मोड़ा-(बड़ी खबर):: अराजक तत्वों ने शिक्षा के मंदिर में लगाई आग, ग्रामीणों की सूझ-बूझ से टला बड़ा हादसा, जानिए पूरा मामला

अल्मोड़ा। स्कूल शिक्षा का पवित्र मंदिर माना जाता है। जहां देश के भविष्य का निर्माण होता है। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले नौनिहाल कभी सरकार व सिस्टम की उपेक्षा का शिकार होते हैं तो कभी अराजक तत्व उनकी पढ़ाई में बांधा बन रहे हैं। जिले में शरारती तत्वों के हौंसले इतने बुलंद हो गए है कि इस बार स्कूल में आगजनी की घटना को अंजाम दे डाला।

मामला भैसियाछाना विकासखंड के प्राथमिक विद्यालय ऐरीखान का है। जहां सोमवार सुबह करीब 7 बजे अराजक तत्वों ने विद्यालय के अतिरिक्त कक्ष में दरवाजा तोड़ आग लगा दी। जिस अतिरिक्त कक्ष में आग की घटना को अंजाम दिया गया है वहां वर्तमान में आंगनबाड़ी केंद्र संचालित होता है।

स्कूल का भवन गांव के बीचों बीच है। सोमवार की सुबह कुछ ग्रामीणों ने आंगनबाड़ी कक्ष से धुंआ निकलता देखा तो उन्होंने आंगनबाड़ी वर्कर कांता को इसकी जानकारी दी। आंगनबाड़ी वर्कर व अन्य ग्रामीण मौके पर वहां पहुंचे। अराजक तत्वों ने अतिरिक्त कक्ष के दरवाजे का एक हिस्सा तोड़कर आग लगाई थी।

विद्यालय के जिस अतिरिक्त कक्ष में आग लगाई गई, उसी से सटी हुई स्कूल की मुख्य भवन भी है। अगर आग विकराल रूप लेती तो स्कूल का मुख्य भवन भी आग की चपेट में आ सकता था। और एक बड़ा हादसा हो सकता था। लेकिन ग्रामीणों ने अपनी सूझ-बूझ का परिचय दिया। वह मौके पर वहां पहुंचे। कड़ी मशक्कत के बाद किसी तरह आग बुझाई। और एक बड़ा हादसा होने से बचा लिया।

प्राथमिक विद्यालय ऐरीखान के प्रधानाध्यापक सुरेश चन्द्र भट्ट ने बताया कि वर्तमान में विद्यालय में 40 छात्र-छात्राएं व आंगनबाड़ी केंद्र में 16 बच्चे पंजीकृत हैं। अतिरिक्त कक्ष में स्कूल का कुछ पुराना फर्नीचर व आंगनबाड़ी का सामान रखा हुआ था। आग की चपेट में आने से पुराना फर्नीचर जल गया है। और दरवाजा क्षतिग्रस्त हुआ है। जबकि अन्य सामान व ​अभिलेख सुरक्षित है।

प्रधानाध्यापक भट्ट ने बताया कि स्कूल का भवन गांव के बीचों बीच स्थित है। विद्यालय भवन के आस पास जंगल भी नहीं है। और न ही अतिरिक्त कक्ष में बिजली है। ऐसे में जंगल की आग या फिर शॉर्ट सर्किट से घटना नहीं हो सकती। अराजक तत्वों द्वारा ही आग की घटना को अंजाम दिए जाने की संभावना है। उन्होंने बताया कि इस मामले में जल्द ही आग लगाने वाले अज्ञात शरारती तत्वों के खिलाफ कार्यवाही को लेकर पुलिस थाने में शिकायत की जाएगी।

सीआरसी गोविंद चंद्र जोशी व प्रभारी खंड शिक्षा अधिकारी धीरेन्द्र कुमार पाठक ने बताया कि घटना के संबंध में विभाग के उच्च अधिकारियों और आपदा प्रबंधन कार्यालय को अवगत करा दिया गया है।

Check Also

police

Uttarakhand:: दारोगा पर महिला पटवारी से गाली गलौज करने का आरोप, डीएम ने बैठाई जांच, जानिए पूरा मामला

इंडिया भारत न्यूज डेस्क: उत्तराखंड पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर पर महिला पटवारी के साथ …