Breaking News

भारती पांडे फिर बनी एशिया प्रशांत क्षेत्र युवा संगठन की कोषाध्यक्ष

अल्मोड़ा: राज्य के संवेदनशील और जनसंघर्षों के मुद्दों पर हमेशा सक्रिय रहने वाली उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी की स्टूडेंट विंग उत्तराखंड छात्र संगठन की भारती पाण्डे को एशिया प्रशांत क्षेत्र युवा संगठन (APYGN) का एक बार फिर कोषाध्यक्ष चुन लिया गया है। एशिया प्रशांत क्षेत्र युवा संगठन की सचिव आया (लेबनॉन) ने गुरुवार को अपने समूह के माध्यम से इसकी घोषणा की।

बता दे कि एपीवाईजीएन एशिया प्रशांत क्षेत्र के लगभग दो दर्जन देशों में जलवायु परिवर्तन और पर्यावरणीय मुद्दों पर काम कर रहे युवाओं का एक सशक्त संगठन है। उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी की छात्र शाखा उत्तराखंड छात्र संगठन पूर्व से ही एपीवाईजीएन के सदस्य के रूप में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय है। दक्षिण कोरिया में जून में प्रस्तावित ग्लोबल यंग ग्रींस की कॉन्ग्रेस में एशिया प्रशांत क्षेत्र युवा संगठन के प्रतिनिधियों की भागीदारी भी रहेगी। उत्तराखंड छात्र संगठन की संयोजक के रूप में भारती पाण्डे और हेमा कांडपाल पिछले तीन वर्षों से इस संगठन में भारतीय छात्र व युवाओं का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

ग्राम पल्यूं में पली बढ़ी व राजकीय इंटर कॉलेज, धौलछीना की पूर्व छात्रा भारती पांडे सामाजिक, राजनीतिक कार्यकर्ता होने के साथ ही वर्तमान में सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय में पत्रकारिता विभाग में अध्ययनरत हैं तथा एक पत्रकार के रूप में भी सक्रिय हैं एवं क्षेत्रीय व राष्ट्रीय जन आन्दोलनों में भी सक्रिय हैं। उनकी सक्रियता क्षेत्र के तमाम युवाओं विशेषकर लड़कियों के लिए प्रेरणा स्रोत है।

भारती को उनके दोबारा कोषाध्यक्ष बनने पर उपपा के केंद्रीय अध्यक्ष पी.सी तिवारी, प्रभात ध्यानी, नवेंदु मठपाल, अनिल अग्रवाल खुलासा, गुलजार अली, वरिष्ठ पत्रकार चारु तिवारी, संजय रावत, त्रिलोचन भट्ट, गांधीवादी नेता इस्लाम हुसैन, इमके नेता रोहित रुहेला, मनमोहन अग्रवाल, पत्रकार सलीम मलिक आदि ने शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।

 

हमसे व्हाट्सएप पर जुड़ें

https://chat.whatsapp.com/IZeqFp57B2o0g92YKGVoVz

हमसे यूट्यूब पर जुड़ें

https://youtube.com/channel/UCq06PwZX3iPFsdjaIam7DiA

Check Also

जीआईसी लोधिया में PTA-SMC का हुआ गठन, राजेंद्र व हरीश अध्यक्ष पद पर हुए मनोनीत

अल्मोड़ा: नगर से लगे राजकीय इंटर कालेज लोधिया में विद्यालय प्रबंधन समिति (SMC) तथा शिक्षक-अभिभावक …