Breaking News

रोजगार को मौलिक अधिकार का दर्जा देने की मांग

अल्मोड़ा: उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी की जिला कार्यकारिणी की बैठक आहूत की गई। इस दौरान ‘भूमाफिया भगाओ, पहाड़ बचाओ’ ‘माफिया भगाओ, उत्तराखंड बचाओ’ की मुहिम को तेज करने का निर्णय लिया गया। रोजगार को मौलिक अधिकार(Right to employment) का दर्जा देने की मांग की गई। साथ ही तय किया गया कि पार्टी को मजबूत करने के लिए गांव-गांव में अभियान चलाया जाएगा।

पार्टी के नवनिर्वाचित जिला अध्यक्ष महेश फुलारा की अध्यक्षता व जिला महासचिव प्रकाश जोशी के संचालन में केंद्रीय अध्यक्ष पी.सी तिवारी(P.C. Tiwari) ने कहा कि उत्तराखंड में दिल्ली से राज करने वाली उत्तराखंड विरोधी पार्टियों की जन विरोधी नीतियों से तंग आकर लोग उपपा के साथ तेजी से जुड़ रहे हैं। उन्हें विश्वास हो चला है कि उनके सपनों के उत्तराखंड का निर्माण उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ही कर सकती है।

जिला कार्यकारिणी की पहली बैठक को संबोधित करते हुए उपपा के जिला अध्यक्ष महेश फुलारा ने कहा कि उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी(Uttarakhand Parivartan Party) अपनी स्थापना के बाद से ही उत्तराखंड की मेहनतकश जनता, मजदूर, किसान के हितों की रक्षा के लिए संघर्ष करती रही है। उत्तराखंड में फैले भ्रष्ट व माफिया तंत्र से सीधी लड़ाई लड़ी है। राज्य में उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ही एकमात्र विश्वसनीय पार्टी है जिसने उत्तराखंड के हितों की रक्षा की है।

बैठक में पारित प्रस्ताव में मुख्य रूप से राजस्व उपनिरीक्षकों के अपनी चौकी में उपलब्ध ना होने पर आम जनता को हो रही परेशानी से निजात दिलाने के लिए राजस्व उपनिरीक्षकों को चौकी में नियमित रूप से उपलब्ध रहने, ग्राम वासियों को बिना ब्याज या कम ब्याज पर ऋण उपलब्ध कराने, महिला पहलवानों का उत्पीड़न बंद कर उनको न्याय दिलाने आदि शामिल हैं।

बैठक में विभिन्न क्षेत्रों से आए हर सिंह, जिला उपाध्यक्ष किशन सिंह, ज्योति देवी, नगर अध्यक्ष हीरा देवी, केंद्रीय उपाध्यक्ष आनंदी वर्मा, केंद्रीय महासचिव एडवोकेट नारायण राम, हेमा पांडे, उछास की भावना पांडे, दीपांशु पांडे, मनीषा ने अपने विचार रखें।

 

हमसे whatsapp पर जुड़े

हमसे youtube पर जुड़ें

Check Also

binsar accident

बिनसर हादसा:: मृतकों व घायलों के परिजनों से मिली कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य, जानिए मंत्री ने क्या कहा

अल्मोड़ा: बिनसर में बीते दिनों हुए दर्दनाक हादसे के बाद मृतकों के गांव में मातम …