Breaking News

कुमाऊं: एक फीट के फासले ने बचा दी 61 जिंदगियां… पुलिस की ये लापरवाही आई सामने

इंडिया भारत न्यूज डेस्क: उत्तराखंड में एक बड़ा सड़क हादसा होने से टल गया। तीर्थ यात्रियों से भरी बस का अचानक ब्रेक फेल हो गया। जिससे बस अनियंत्रित होकर पलट कर सड़क से काफी बाहर खाई की ओर लटक गई। कुछ पल के लिए बस में सवार तीर्थ यात्रियों की जान सांसत में आ गई। मदद के लिए बस के अंदर चीख पुकार मच गई। इस हादसे में 25 लोग घायल हो गए। गंभीर चोट होने पर 7 यात्रियों को एसटीएच हल्द्वानी रेफर किया गया है।

चंपावत-टनकपुर हाईवे पर धौन के पास रविवार देर रात करीब 10 बजे तीर्थ यात्रियों से भरी बस संख्या-पीबी 03बीएल, 6231 अनियंत्रित होकर सड़क पर पलट गई। यह तीर्थ यात्री रीठा साहिब गुरुद्वारे से दर्शन करने के बाद पंजाब को लौट रहे थे। बस में 61 तीर्थयात्री सवार थे। दुर्घटना में 25 यात्री घायल हो गए। जिनमें 7 को गंभीर चोटें आई। प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें सुशीला तिवारी हल्द्वानी रेफर कर दिया गया, जबकि मामूली रूप से घायल 18 तीर्थ यात्रियों का इलाज जिला अस्पताल में किया जा रहा है।

बाल-बाल बची 61 जिंदगियां

जिस जगह ये हादसा हुआ। उसके पास करीब 500 मीटर गहरी खाई है। तीर्थ यात्रियों से भरी यह बस खाई से गिरने से बाल-बाल बची। अगर बस खाई में गिरती तो कई लोगों की जान जा सकती थी। शुक्र रहा कि बस खाई में गिरने से बच गई और एक बड़ा हादसा होने से टल गया। वही, हादसे के दौरान यात्रियों की चीख पुकार​ निकल पड़ी। सूचना के बाद आला अधिकारी व राहत बचाव की टीमें मौके पर पहुंची। राहत बचाव में स्थानीय लोगों ने भी काफी मदद की।

बस दुर्घटना स्थल धौन के पास गहरी खाई, फोटो- इंडिया भारत न्यूज

प्रतिबंध के बावजूद रीठा साहिब पहुंच रही लंबी बसें

चंपावत हादसे ने पुलिस प्रशासन पर कई सवाल खड़े किए है। जो बस दुर्घटनाग्रस्त हुई वह 60 सीटर थी। जबकि 60 सीटर बसों को रीठा साहिब जाने के लिए प्रतिबंधित किया गया है। बावजूद इसके कई थानों व चेकपोस्टों को पार कर यह बस रीठा साहिब कैसे पहुंची, यह बड़ा सवाल है। यही नहीं कई अन्य लंबी बसें धड़ल्ले से रीठा साहिब पहुंच रही है, जो यात्रियों की जान से खिलवाड़ है। जबकि परिवहन विभाग की ओर से लोहाघाट से रीठा साहिब तक सिर्फ 32 सीटर बसों को ही संचालित करने की अनुमति दी गई है।

इधर एसपी चंपावत देवेंद्र पींचा ने कहा कि पहाड़ों में लंबी बसों को रीठा साहिब जाने के लिए प्रतिबंधित किया गया है तथा गुरुद्वारों में भी सूचना दी गई है इसके बाद भी लंबी बसे रीठा साहिब पहुंच रही है। एसपी ने कहा कि कराली गेट टनकपुर में पिकेट तैनात कर दी गई है साथ ही सोमवार को 2 लंबी बसों को वापस भेजा गया है।

 

हमसे whatsapp पर जुड़े

हमसे youtube पर जुड़ें

Check Also

Almora breaking:: कोसी नदी में दो युवकों की डूबकर मौत, एक हफ्ते पहले हुई थी शादी

अल्मोड़ा: कोसी नदी में गहराई का सही अंदाजा न होने से दो जिंदगियां खत्म हो …