Breaking News

Almora Literature Festival: अल्मोड़ा में साहित्य, संगीत और कला का संगम… दिग्गजों को सुनने और जानने का मिलेगा मौका, ये रहेगा खास

अल्मोड़ाः ऐतिहासिक व सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा में साहित्य, कला व संगीत का संगम होगा। आगामी 30 जून से ‘अल्मोड़ा लिटरेचर फेस्टिवल’ (Almora Literature Festival) का आगाज होने जा रहा है। फेस्टिवल में लोगों को साहित्य, कला, संगीत समेत अन्य कई क्षेत्रों के दिग्गजों के साथ ही देश की कई श्रेष्ठ प्रतिभाओं को सुनने का अवसर मिलेगा। फेस्ट को लेकर तैयारियों जोरों पर है। यह कार्यक्रम मुख्य रूप से ‘ग्रीन हिल्स संस्था’ द्वारा आयोजित किया जा रहा है।

नगर के एक होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में पत्रकारों से मुखातिब होते हुए ग्रीन हिल्स संस्था की सचिव डॉ. वसुंधरा पंत ने बताया कि ‘अल्मोड़ा लिटरेचर फेस्टिवल’ 30 जून से 2 जुलाई तक मल्ला महल में आयोजित होगा। तीन दिवसीय इस कार्यक्रम में कुल 21 सेशन होंगे। कार्यक्रम में देश के अलग-अलग कोने से लेखक, पत्रकार, संगीतकार, इतिहासकार, राजनीतिज्ञ, फोटोग्राफर समेत कई अन्य नामचीन हस्तियां शिरकत करेंगी। डॉ. पंत ने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य उत्तराखंड की सांस्कृतिक राजधानी के रूप में अल्मोड़ा के गौरव को दोबारा पुनर्जीवित करना व जिले को राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पटल पर पहचान दिलाना है।

डॉ. पंत ने बताया कि कार्यक्रम का प्रत्येक दिन शास्त्रीय संगीत के साथ शुरू होगा। पहले दिन पंडित उदय भवालकर का मंत्रमुग्ध कर देने वाला धुपद गायन उसके बाद दूसरे दिन पद्मश्री बसंती बिष्ट के साथ जागर गायन और तीसरे दिन डॉ. रवि जोशी द्वारा मनमोहक हिंदुस्तानी सगुण निर्गुण पद की गायन प्रस्तुति होगी। साथ ही सम्राट पंडित द्वारा ठुमरी गायन और आखिरी दिन प्रसिद्ध कुमाऊंनी गायक बी.के सामंत का रंगारंग कार्यक्रम होगा। युवाओं को मंच प्रदान करने के लिए इस फेस्टिवल में ‘ओपन माइक’ कार्यक्रम भी रखा गया है।

इतिहास में रुचि रखने वालों के लिए यह फेस्ट भारतीय इतिहास के पन्नों में एक मनोरम यात्रा प्रदान करेगा। हिमांशु बाजपेयी दास्तानगोई की प्राचीन कला के माध्यम से 1925 की काकोरी ट्रेन डकैती को जीवंत करेंगे।

कार्यक्रम में कविता, साहित्य, इतिहास, संस्कृति और रंगमंच जैसे विभिन्न विषयों पर आकर्षक चर्चाएं होंगी। उत्तराखंड के पूर्व सीएम व महाराष्ट्र के पूर्व राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत उत्तराखंड की राजनीति पर अपने विचार रखेंगे।

इसके अलावा फेस्ट में सभी लोगों के लिए खासतौर पर बच्चों के लिए प्रतिदिन नक्षत्र एवं ग्रह दर्शन आकर्षण का केंद्र रहेगा। इसके अलावा बच्चों के लिए एक समर्पित स्थान भी होगा। जिसमें साहित्य, कहानी कहने के सत्र और आकर्षक रचनात्मक गतिविधियां और कार्यशालाएं पेश की जाएंगी। वही, पत्रकारों के लिए लेखक लाउंज(Writers Lounge) के समक्ष स्थित एक मीडिया कक्ष होगा, जहां वे वक्ताओं और लेखकों के साथ साक्षात्कार कर सकते है।

डॉ. पंत ने बताया कि अल्मोड़ा लिटरेचर फ़ेस्टिवल के मुख्य प्रायोजक ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय, यू. कोस्ट, जी.बी. पंत पर्यावरण संस्थान, कोसी कटारमल और एल.एस.सी. इन्फ्राटेक हैं। साथ ही जिला प्रशासन, उत्तराखंड पर्यटन विभाग और अल्मोड़ा होटेल एसोसिएशन इस आयोजन के विशिष्ट सहयोगी है। फ़ेस्टिवल का आयोजन ग्रीनहिल्स ट्रस्ट द्वारा होटेल शिखर, अल्मोड़ा किताब घर और बार्ड स्टूडिओ सहयोगी के रूप में शामिल है।

डॉ. वसुधा पंत ने कहा कि कार्यक्रम के लिए लोगों का अपार सहयोग मिल रहा है। जिसके चलते वह इस कार्यक्रम को करने की हिम्मत कर पाई। उन्होंने सभी साहित्य, कला, संगीतप्रेमियों, वरिष्ठ नागरिकों, महिलाओं, बुद्धिजीवियों, युवाओं व स्कूली बच्चों से इस कार्यक्रम में शिरकत करने की अपील की है।

डॉ. दीपा गुप्ता ने कहा कि अल्मोड़ा लिटरेचर फेस्टिवल कुछ अलग और खास होने जा रहा है। इस साहित्यिक उत्सव में देश के कई श्रेष्ठ वक्ता, लेखक अपनी उपस्थिति दर्ज करवाएंगे। फेस्टिवल में साहित्य, कला क्षेत्र के दिग्गजों के साथ नवोदित और प्रतिभाशाली लेखक, कलाकार और कवि शामिल होंगे।

पत्रकार वार्ता में ग्रीन हिल्स संस्था की सचिव व आयोजक डॉ. वसुधा पंत, डॉ. दीपा गुप्ता, जयमित्र सिंह बिष्ट, विनायक पंत, सुभाष सिंह नेगी, भूपेंद्र वल्दिया आदि मौजूद रहे।

यहां देखें कार्यक्रम की लिस्ट-

 

Check Also

अल्मोड़ा-(बिग ब्रेकिंग):: एक स्मैक खरीदकर लाता था तो दूसरा पुड़िया बनाकर बेचता था; लाखों रुपये कीमत की स्मैक के साथ दो तस्कर गिरफ्तार

अल्मोड़ा: पहाड़ में नशे का कारोबार तेजी से बढ़ रहा है। आलम ये है कि …