Breaking News

अल्मोड़ा विधानसभा की बदहाल सड़कों समेत अन्य समस्याओं को लेकर सरकार व जनप्रतिनिधियों पर बरसे कर्नाटक, आंदोलन की चेतावनी

अल्मोड़ा: कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं पूर्व दर्जामंत्री बिट्टू कर्नाटक ने नगर की ज्वलंत समस्याओं को लेकर सरकार व जनप्रतिनिधियों को आड़े हाथ लिया है। कर्नाटक ने कहा कि नगर की मुख्य सड़कों समेत आंतरिक मार्गों की हालत बेहद दयनीय है। साथ ही नगर में चल रहे ड्रेनेज सिस्टम का कार्य भी काफी धीमी गति से चल रहा है। लोधिया में कई सालों बाद भी फूड क्राफ्ट इंस्टीटयूट संचालित नहीं हो पाया है। समस्याओं पर सरकार व यहां के जनप्रतिनिधियों द्वारा कोई सुध नहीं ला जा रही है। कर्नाटक ने चेतावनी दी है कि 31 मार्च तक सभी समस्याओं का समाधान नहीं होता वह संबंधित विभागों में चरणबद्ध आंदोलन करेंगे।

 

 

कर्नाटकखोला स्थित अपने कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में कर्नाटक ने कहा कि अल्मोडा विधानसभा के अन्तर्गत खत्याड़ी से मेडिकल कालेज, गरगूढ से स्यालीधार, चौसली-कोसी, बाडेछीना-शेराघाट, गैराड़ से कलौन (धौलछीना), बेतालेश्वर-स्यालीधार, लोधिया-चौमू-कपिलेश्वर, खूंट-ज्योली-बसर तथा हरड़ा-शीतलाखेत, नौला-रैखलधार आदि मोटर मार्ग सरकार व जनप्रतिनिधियों की उदासीनता का दंश झेल रहे है। बदहाल पड़े इन मोटर मार्गों में लंबे समय से सुधारीकरण, मरम्मत व डामरीकरण का कार्य नहीं हो सका है। जिससे उक्त मार्गों में दुर्घटनाओं की संभावना बनी हुई है।

कर्नाटक ने कहा कि मुख्यालय के आन्तरिक मार्गो की स्थिति भी दयनीय है। राष्ट्रीय राजमार्ग हो या लोक निर्माण विभाग की सडकें हों। तीनों सम्पर्क, लिंक मार्ग जिनमें गैस गोदाम-अपर माल रोड सम्पर्क मार्ग, विगत पांच वर्षो से रानीधारा सम्पर्क मार्ग, रानीधारा-पनिउडियार मार्ग तथा एन.टी.डी.से धार की तूनी वाले सम्पर्क मार्ग की स्थिति अत्यन्त दयनीय है। मार्ग क्षतिग्रस्त होने के साथ ही मार्ग में जगह-जगह लोहे की सरिया बाहर को निकली हुई है और गढ्ढे तक पाटे नहीं गये हैं।

 

 

कर्नाटक ने कहा कि एन.टी.डी.से धार की तूनी वाले सम्पर्क मार्ग पर भाजपा के जिला कार्यालय के पास वाली सड़क की स्थिति अत्यन्त दयनीय है। सरकार अपने कार्यालय के पास की सड़क का सुधारीकरण नहीं कर पा रही है यह सोचनीय विषय है। खस्ताहाल सड़क के कारण कई दुर्घटनायें हो चुकी हैं तथा गर्भवती महिलाओं एवं गम्भीर रूप से बीमार व्यक्तियों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

कर्नाटक ने कहा कि नगर में सीवर लाईन निर्माण का कार्य चल रहा है, जो संदेह और शक के दायरे में है। बाहर से आये लोग यहां सीवर लाईन का कार्य अपने मनमाने तरीके से कर रहे हैं। नगर का मुख्य मार्ग माल रोड जाखनदेवी के पास दयनीय स्थिति में है, जिसके कारण स्थानीय व्यापारियों का व्यापार समाप्त हो गया है।।इस मार्ग में लगातार धूल उड़ रही है और हल्की वर्षा होने पर भी मार्ग में अत्यधिक कीचड़ होने से अनेक दुर्घटनायें हो गयी हैं। मंत्री, सांसद, विधायक, अधिकारी तथा जनप्रतिनिधि इसी मार्ग से जाते हैं लेकिन किसी का ध्यान इस ओर नहीं है।

कर्नाटक ने बताया कि अल्मोडा के 39 नालों के सुधारीकरण व मरम्मत हेतु ड्रैनेज सिस्टम के लिए सरकार द्वारा 20 करोड रूपये सिंचाई विभाग को दिया गया था। लेकिन खेदजनक स्थिति है कि आज तक 10 प्रतिशत कार्य भी पूर्ण नहीं हो पाया है।

 

 

कर्नाटक ने कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार द्वारा लोधिया में फूड क्राफ्ट संस्थान स्वीकृत किया गया था, जहां युवाओं के स्वरोजगार सम्बन्धी कोर्स प्रारम्भ किये जाने थे। ताकि युवाओं को पर्यटन एवं होटल प्रबन्धन व्यवसाय में रोजगार उपलब्ध कराया जा सके। लेकिन वर्तमान सरकार की उदासीनता के चलते 10 वर्षो में भी इस संस्थान का न तो कार्य पूर्ण हो पाया और न ही यह केन्द्र संचालित हो पाया।

कर्नाटक ने कहा कि लम्बे समय से जनहित के मुद्दों पर सरकार, विभाग एव जनप्रतिनिधि चुप्पी साधे हैं। वर्तमान सरकार एवं विभागीय अधिकारियों को जनता से कोई लगाव नहीं रह गया है वे जनता को छलने के लिये केवल कोरे भाषण, नारों तक सीमित हैं। जनता आज त्राहिमाम-त्राहिमाम कर रही है। इनकी चुप्पी को तोड़ने एवं इन्हें जगाने के लिये उन्होंने कहा कि अब यह लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

 

 

 

कर्नाटक ने चेतावनी देते हुये कहा कि यदि 31 मार्च 2024 तक तीनों सम्पर्क, लिंक मार्ग, सीवर लाईन का कार्य, नालों तथा फूड क्राफ्ट संस्थान का कार्य पूर्ण नहीं किया जाता है तो उन्हें स्थानीय जनता के साथ बाध्य होकर सभी कार्यालयों में प्रथम चरण में धरना-प्रदर्शन, द्वितीय चरण में तालाबन्दी एवं तृतीय चरण में आमरण अनशन के साथ ही चक्का जाम करने को बाध्य होना पडेगा। जिसकी जिम्मेदारी सरकार एवं विभागों की होगी।

 

बनभूलपूरा हिंसा की निष्पक्ष जांच व दोषियों के खिलाफ हो कार्रवाईः कर्नाटक

हल्द्वानी के बनभूलपुरा क्षेत्र में मलिक के बगीचे में कथित अवैध मदरसा तोड़ने के दौरान हुई हिंसा पर पूर्व दर्जा मंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष बिट्टू कर्नाटक ने चिंता जताई है।  बिट्टू कर्नाटक ने कहा कि दंगाई किसी जाति धर्म के नहीं होते है। हल्द्वानी हिंसा में जो भी दोषी पाए जाते है उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। किसी भी निर्दोष को सजा नहीं मिलनी चाहिए। बिट्टू कर्नाटक ने कहा कि जिन कृत्यों से देश व समाज का माहौल खराब हो, ऐसे कृत्य हितकर नहीं है। उन्होंने सभी लोगों से शांति सौहार्द व भाईचारा बनाए रखने की अपील की है।

 

 

 

Check Also

अल्मोड़ा-(बड़ी खबर):: अराजक तत्वों ने शिक्षा के मंदिर में लगाई आग, ग्रामीणों की सूझ-बूझ से टला बड़ा हादसा, जानिए पूरा मामला

अल्मोड़ा। स्कूल शिक्षा का पवित्र मंदिर माना जाता है। जहां देश के भविष्य का निर्माण …