Breaking News

उत्तराखंड के पूर्व DGP अशोक कुमार इस विवि में संभाला कुलपति का पदभार, बताई प्राथमिकताएं

 

देहरादून: उत्तराखंड के पूर्व पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार को हरियाणा सरकार ने खेल विश्वविद्यालय का कुलपति नियुक्त किया गया है। अशोक कुमार ने 1 मार्च को पदभार ग्रहण कर लिया है। 34 वर्षों से ज्यादा का समय देश में सिविल सेवा आईपीएस के तौर ​पर सेवाएं दी हैं। अब अशोक कुमार खेल के क्षेत्र में अपनी सेवाएं देंगे।

अशोक कुमार ने हरियाणा खेल विश्वविद्यालय का कुलपति बनाने पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल का आभार जताया है।

 

 

अशोक कुमार 1989 बैच के आईपीएस हैं। जो कि उत्तराखंड के डीजीपी यानी पुलिस महानिदेशक के पद से रिटायर हुए हैं। वह नवंबर 2020 से 30 नवंबर 2023 तक उत्तराखंड के डीजीपी रहे। बीती 30 नवंबर 2023 को अशोक कुमार उत्तराखंड डीजीपी के पद से रिटायर हुए। इससे पहले साल 2020 में आईपीएस अशोक कुमार ने बतौर उत्तराखंड डीजीपी की कमान संभाली थी। उस वक्त कोरोना महामारी का प्रकोप चल रहा था।

 

 

अपने एक्स अकाउंट ओर पोस्ट साझा कर अशोक कुमार ने कहा कि, “आज मैंने हरियाणा स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी राई के वाइस चांसलर का पदभार ग्रहण किया। सबसे पहले मैं हरियाणा के माननीय मुख्यमंत्री श्री @mlkhattar जी का धन्यवाद देना चाहूँगा कि उन्होंने मुझे ये महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है। 34 वर्ष तक मेरी कर्मभूमि यूपी, उत्तराखंड, पाकिस्तान बॉर्डर और बांग्लादेश बॉर्डर रही है और अब पहली बार मुझे अपनी जन्मभूमि में भी सेवा करने का मौका मिला है।

आदरणीय प्रधानमंत्री मोदी जी लगातार खेलों को बढ़ावा दे रहे हैं। प्रधानमंत्री जी का मानना है कि देश का युवा खेल को भी प्रोफेशन की तरह देखे। हमारा प्रयास भी यही रहेगा कि हम माननीय प्रधानमंत्री जी के खेलों से संबंधित विज़न को अच्छी तरह से विश्वविद्यालय में लागू करें। भविष्य में कई ऐसे कोर्सेज चलाने की भी हमारी योजना है जिससे खिलाड़ियों को भविष्य में जॉब की चिंता भी ना करनी पड़े और वो खेल में अपना सर्वोच्च योगदान दे सके।
हमने अक्सर देखा है कि कई होनहार खिलाड़ी पढ़ाई के चक्कर मे खेल से दूर हो जाते हैं, हमारा प्रयास ये रहेगा कि हम खिलाड़ियों के लिए पढ़ाई और खेल के बीच में सामंजस्य बिठा सके और खेल खेल में पढ़ाई भी हो ऐसी योजनाओं पर काम करेंगे। स्पोर्ट्स को कैरियर के रूप में देख रहे युवाओं के लिए डिग्री व पढ़ाई से सम्बंधित जो भी दिक्कतें हैं उनको दूर करने का प्रयास हम करेंगे।

हमारा प्रयास ये भी रहेगा कि हम खिलाड़ियों के कमजोर और मजबूत पक्ष को पहचान करते हुए उनके लिये अंतरराष्ट्रीय स्तर के कोर्सेज को विश्वविद्यालय में ही शुरू करें। जिससे हमारे खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की ट्रेनिंग विश्विद्यालय में ही मिल सके। हम खिलाड़ियों के लिये स्पोर्ट्स साइंस में ध्यान देने के साथ ही खिलाड़ियों के लिये इंजरी रिहैबिलिटेशन सेन्टर की भी शुरुआत करेंगे।

बतौर खेल यूनिवर्सिटी के VC के तौर पर मेरा प्रयास ये रहेगा कि हमारे खिलाड़ियों को कभी कोई भी समस्या ना हो। हम माननीय मुख्यमंत्री जी के निर्देशानुसार विश्वविद्यालय में खिलाड़ियों के लिये ऐसा माहौल तैयार करेंगे जिससे ज्यादा से ज्यादा वर्ल्ड चैंपियन खिलाड़ी यूनिवर्सिटी से निकले और हमारे देश का नाम गर्व से ऊंचा करें।”

 

Check Also

बिनसर हादसा अपडेट:: पल भर में खत्म हुई 4 जिंदगियां, ऐसे आग की चपेट में आए कर्मचारी.. जानिए अफसरों ने क्या कहा

अल्मोड़ा: बिनसर वन्य जीव विहार में गुरुवार शाम हुई दर्दनाक हादसे ने लोगों को झकझोर …