Breaking News

Uttarakhand: पूर्व डीईओ डी सी सती को शासन ने दी क्लीन चिट, विभाग ने लगाए थे यह आरोप

 

बागेश्वर: आडिट आपत्तियों का निराकरण नहीं करने के आरोपों से घिरे खंड शिक्षा अधिकारी डी.सी सती को मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने क्लीन चिट दे दी है। इस प्रकरण के कारण उनकी पदोन्नति बाधित हुई। क्लीन चिट मिलने के बाद अब सती में विभागीय लाभ मिलने की उम्मीद जग गई है।

 

ये है मामला-

मामला साल 2016 का है। बीईओ डी.सी सती ने बताया कि वह जुलाई 2015 से मई 2017 तक जिला शिक्षा अधिकारी, प्रारंभिक, ऊधमसिंह नगर के पद पर कार्यरत रहे। वर्ष 2010 से 2016 तक का परफॉर्मेंस आरटीई ऑडिट हुआ। वर्ष 2013 एवं 2014 की आरटीई की आडिट आपत्तियों चिह्नत की गई। जो उनकी सेवा अवधि के अंतर्गत नहीं थी। लेकिन विभाग द्वारा प्रकरण पर उन्हें दंडित किया गया। साथ ही प्रमोशन आदि पर लगे आरोपों के खिलाफ उन्होंने विभाग में कई बार अपील की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो पाई। इससे उनकी समाजिक प्रतिष्ठा पर भी सवाल उठने लगे। इसी बीच सती का स्थानांतरण प्राचार्य डायट पिथौरागढ़ (डीडीहाट) कर दिया गया। जिसके बाद उन्होंने अपनी पीड़ा मुख्य सचिव राधा रतूड़ी के समक्ष रखी।

मुख्य सचिव ने दी क्लीन चिट

सती ने शासन को अवगत कराया कि यह आपत्तियां उनके कार्यकाल की नहीं है, अल्प कार्यकाल में उनके द्वारा समस्त आपत्ति का निराकरण यथा समय सुनिश्चित किया गया। आरटीई के तहत धार्मिक संस्थानों पर दिए गए धन की वसूली संबंधी ऑडिट आपत्तियां समय साध्य थी। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने इस मामले में डी सी सती को क्लीन चिट दे दी है। उन्होंने कहा कि जिन आडिट आपत्तियों के लिए सती को दोषी पाया गया है वह उनके कार्यकाल से संबंधित नहीं हैं। यह भी स्पष्ट हुआ है कि जिन अधिकारियों के कार्यकाल में अनियमितता हुई है उनके विरूद्ध शासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। सती द्वारा ऑडिट आपत्तियों के निराकरण के संबंध को लेकर जो कार्रवाई की है, उससे स्पष्ट है कि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान आपत्तियों के निराकरण के लिए नियमानुसार समुचित प्रयास किए हैं।

बीईओ सती ने बताया कि इस प्रकरण के कारण उनकी पदोन्नति बाधित हो गई और उनसे कनिष्ठ अधिकारी संयुक्त शिक्षा निदेशक पद पर कार्यरत है। प्रकरण के बाद उनके सामाजिक प्रतिष्ठा पर भी सवाल उठते रहे। साथ ही इस अवधि में वे और उनका परिवार काफी आहत रहे। उन्होंने बताया कि अब क्लीन चिट मिलने के बाद उन्हें विभागीय लाभ मिलने की उम्मीद है। उन्होंने उत्तराखंड शासन का आभार व्यक्त किया है।

 

कार्मिक संगठनों मुख्य सचिव के फैसले का किया स्वागत

डी सी सती को क्लीन चिट दिए जाने के शासन के फैसले का ​कार्मिक संगठनों ने स्वागत किया है। उत्तरांचल पर्वतीय कर्मचारी शिक्षक संगठन उत्तराखंड जनपद अल्मोड़ा के अध्यक्ष मनोज कुमार जोशी व सचिव धीरेन्द्र कुमार पाठक तथा एजुकेशनल मिनिस्ट्रीयल आफीसर्स एसोसिएशन कुमाऊं मण्डल, नैनीताल के अध्यक्ष पुष्कर सिंह भैसोड़ा ने विभागीय जांच पर आश्चर्य व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि किसी भी अधिकारी व कार्मिक को बिना गलती के कसूरवार ठहराया जाना ठीक नहीं है। इस प्रकरण से जहां एक तरफ डी सी सती की पदोन्नति प्रभावित हुई है वही, उन्हें निचले पदों पर काम करना पड़ा।

 

Check Also

कुमाउं में बड़ा सड़क हादसा, पर्यटकों की कार गहरी खाई में गिरी, मची चीख-पुकार

-हादसे की जांच में जुटी पुलिस, घायलों की स्थिति गंभीर   नैनीताल: उत्तराखंड के नैनीताल …