Breaking News
Oplus_131072

गुलदार का आतंक:: अल्मोड़ा में यहां 5 घंटे के भीतर गुलदार ने किए दो हमले, ग्रामीणों में दहशत

अल्मोड़ा: पर्वतीय जिलों में गुलदार का आतंक लगातार बढ़ रहा है। गुलदार कभी इंसानों पर तो कभी मवेशियों पर हमला कर रहे है। विकासखंड हवालबाग के रेंगल गांव में लंबे समय से गुलदार का आतंक बना हुआ है। गुलदार दिनदहाड़े मवेशियों को अपना निवाला बना रहा है। इस बार गुलदार ने महज 5 घंटे के भीतर दो मवेशियों पर हमला कर दिया। जिसमें एक मवेशी की मौत हो गई। जबकि दूसरा बुरी तरह जख्मी है। गुलदार के बढ़ते आतंक से क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है। लोग डरे सहमे हुए है।

ग्रामीणों से ​प्राप्त जानकारी के मुताबिक, रेंगल निवासी खष्टी देवी सुबह करीब 9 बजे घर के पास ही अपनी बकरियों को चारा चुगा रही थी। इसी दौरान झाड़ियों में छिपे गुलदार ने उनकी एक बकरी पर अटैक कर दिया। खष्टी देवी ने शोर किया तो गुलदार बकरी को घायल कर वहां से भाग गया। गुलदार के हमले में बकरी के गर्दन में कई घाव हुए है।

गांव में गुलदार का आतंक इस कदर है कि घटना के 5 घंटे बाद दोपहर 2 बजे गुलदार ने खेत में चारा चुग रही रेंगल निवासी गोपाल सिंह की गाय पर अटैक कर दिया। गुलदार को हमला करते हुए देख ग्रामीण शोर करते हुए घटनास्थल की ओर दौड़े। ​गुलदार गाय को छोड़ जंगल की ओर भाग पड़ा। लोगों के वहां पहुंचने तक गाय की मौत हो चुकी थी।

मौके पर पहुंचे ग्राम प्रधान भीम सिंह व अन्य ग्रामीणों ने घटना की सूचना वन क्षेत्राधिकारी मोहन राम आर्या को दी। रेंगल निवासी चंद्रशेखर कांडपाल ने बताया कि गांव में लंबे समय से गुलदार का आतंक बना हुआ है। गुलदार अब तक कई मवेशियों को अपना निवाला बना चुका है। आए दिन हो रहे गुलदार के हमलों से ग्रामीण काफी भयभीत है। उन्होंने वन विभाग से पिंजरा लगाकर गुलदार को पकड़ने की मांग की है।

 

वन विभाग की टीम पहुंची गांव

रेंगल गांव में गुलदार के बढ़ते आतंक को देखते हुए गुरुवार को वन विभाग की टीम गांव पहुंची। शीतलाखेत अनुभाग के डिप्टी रेंजर हेम चंद्र के नेतृत्व में गांव पहुंची वन विभाग की टीम ने घटना के संबंध में ग्रामीणों से जानकारी ली। साथ ही ग्रामीणों को गुलदार से बचाव को लेकर जागरूक किया।

डिप्टी रेंजर हेम चंद्र ने बताया कि 5 जून को रेंगल गांव में गुलदार ने हमला कर गाय को मार दिया था। साथ ही एक बकरी पर भी हमला किया था। उन्होंने बताया कि गुलदार की मूवमेंट को कैद करने के लिए जल्द ही गांव में कैमरा ट्रैप लगाए जाएंगे। जिसके बाद आवश्यक कार्यवाही की जाएगी।

वन विभाग की टीम में डिप्टी रेंजर हेम चंद्र के अलावा बीट अधिकारी रणजीत सिंह नेगी, फायर वाचर रविंद्र सिंह, संजय सिंह आदि मौजूद रहे।

Check Also

बिनसर हादसा अपडेट:: पल भर में खत्म हुई 4 जिंदगियां, ऐसे आग की चपेट में आए कर्मचारी.. जानिए अफसरों ने क्या कहा

अल्मोड़ा: बिनसर वन्य जीव विहार में गुरुवार शाम हुई दर्दनाक हादसे ने लोगों को झकझोर …