Breaking News
Monkey
Monkey

अच्छी खबर: उत्तराखंड में पिछले 6 साल में इतने फीसदी घट गए बंदर-लंगूर, वन विभाग ने जारी किए आंकड़े

देहरादून। प्रदेश के लोगो के लिए एक अच्छी ख़बर है। उत्तराखंड में पिछले 6 सालों में बंदरों व लंगूरों की संख्या काफी घटी है। वन विभाग की माने तो राज्य में बंदरों की संख्या में 24.55 फीसदी व लंगूरों की संख्या में 31.14 फीसदी की कमी देखने को मिली है। वन विभाग के वाइल्ड लाइफ डिपार्टमेंट ने यह आंकड़े जारी किए है।

वन मंत्री सुबोध उनियाल ने यह आंकड़े जारी करते हुवे बताया कि 1780 वन कर्मियों ने मिलकर बंदरों और लंगूरों की गणना की है। साल 2021 में हुई गणना में बंदरों की संख्या 1,10,481 और लंगूरों की संख्या 37,735 दर्ज की गई। जबकि साल 2015 में बंदरों की संख्या 1,46,432 थी, जबकि लंगूरों की संख्या 54,804 थी। कुल मिलाकर बंदरों की संख्या में 24.55 फीसदी की कमी आई है, जबकि लंगूरों में 31.14 फीसदी की कमी देखने को मिली है।

ये भी पढ़ें-

उत्तराखंड- (बड़ी खबर): यहां होटल में चल रहा था सेक्स रैकेट.. 4 युवतियों सहित 7 लोग गिरफ्तार

बता दें, उत्तराखंड में बंदर और लंगूर खेती के लिए हमेशा एक बड़ा संकट रहे हैं। गांवों से बड़े पैमाने पर जो पलायन हुआ है, उसके पीछे बंदरों का आतंक भी एक बड़ा कारण माना जाता है। किसानों की तरफ से भी लगातार खेती में बंदरों द्वारा नुकसान किए जाने की शिकायत की जाती रही है।

वन मंत्री सुबोध उनियाल ने कहा कि उत्तराखंड सरकार की तरफ से बंदरों की संख्या को कम करने के लिए नसबंदी अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के बाद साल 2015 की तुलना में 2021 के दौरान बंदरों और लंगूरों की संख्या में हजारों की कमी आई है। उन्होंने बताया कि अभी तक कुल 42,761 बंदरों और लंगूरों की नसबंदी गई है, जिसमें 23,768 नर बंदर और 18,993 मादा बंदर शामिल हैं।

Check Also

धौलछीना हादसा अपडेट: हादसे में जान गंवाने वाली महिला व घायलों के नाम सामने आएं, पढ़ें पूरी खबर

-प्राथमिक उपचार के बाद तीनों घायलों को हायर सेंटर रेफर किया, पूजा पाठ के लिए …