Breaking News
Oplus_131072

बिनसर वनाग्नि हादसा:: ग्रामीणों का फूटा गुस्सा, सेंचुरी गेट पर शव के साथ किया प्रदर्शन, वन विभाग के खिलाफ नारेबाजी

अल्मोड़ा: बिनसर वन्य जीव विहार में बीते गुरुवार को जंगल की आग ने चार जिंदगियों को तबाह कर दिया। इस खौफनाक हादसे में जाखसौड़ा, कपड़खान निवासी 35 वर्षीय दीवान राम की भी मौत हो गई थी, जो वन विभाग में दैनिक श्रमिक के तौर पर कार्यरत थे। इस घटना के बाद ग्रामीणों में वन विभाग के खिलाफ खासा आक्रोश है। शुक्रवार को जाखसौड़ा के ग्रामीणों ने बिनसर सेंचुरी गेट के पास वाहन के छत पर शव रखकर प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने वन विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

मृतक के परिजनों व ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए कहा कि वन​कर्मियों को बिना सुरक्षा किट के आग बुझाने के लिए सेंचुरी भेजा गया। जहां 4 कर्मचारियों को अपनी जान गंवानी पड़ी। ग्रामीणों ने कहा कि मृतक दीवान राम के तीन नाबालिग बच्चे है। इस घटना के बाद परिवार बुरी तरह टूट चुका है। उन्होंने मृतक के परिजनों को एक करोड़ रुपये मुआवजा देने, तीनों बच्चों को 18 वर्ष पूरे होने तक सरकार द्वारा उनकी शिक्षा की जिम्मेदारी लेने, पत्नी को सरकारी नौकरी देने आदि मांगें उठाई गई।

ग्रामीणों के प्रदर्शन की सूचना मिलते ही जिला प्रशासन व विभागीय अधिकारियों के ​हाथ पांव फूल गए। वन क्षेत्राधिकारी मनोज सनवाल ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को काफी समझाने का प्रयास किया। लेकिन ग्रामीणों ने उनकी एक नहीं सुनी। ग्रामीण लिखित आश्वासन पर अड़े रहे। बाद में अधिकारियों द्वारा ग्रामीणों को मांगों पर उचित कार्यवाही के लिए लिखित आश्वासन दिया गया। जिसके बाद ग्रामीणा माने। और शव को स्थानीय घाट ले जाकर अंत्येष्टि की गई।

डीएफओ दीपक सिंह ने बताया कि वन विभाग पीड़ित परिवारों के साथ खड़ा है। विभागीय नियमानुसार पीड़ित परिवारों की जो भी सहायता की जा सकती है, उस पर कार्यवाही की जा रही है।

 

पीएम कार्यवाही के दौरान ग्रामीणों की अधिकारियों से हुई तीखी बहस

बिनसर हादसे में मारे गए चार लोगों का गुरुवार देर रात पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम की कार्यवाही देर रात करीब 2 बजे तक पूरी हुई। इस दौरान मोर्चरी में काफी संख्या में ग्रामीण पहुंचे थे। इस दौरान मृतकों के परिजनों व ग्रामीणों की डीएफओ व अन्य अधिकारियों के साथ तीखी बहस हुई। ग्रामीणों ने पीड़ित परिवारों को उचित मुआवजा व घर के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की। डीएफओ के उचित कार्यवाही के आश्वासन के बाद ग्रामीण शांत हुए।

 

हेलीकॉप्टर से आग बुझाने का कार्य जारी रहेगा

डीएफओ दीपक सिंह ने बताया कि शुक्रवार को वायु सेना के हेलीकाप्टर के साथ ही एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, फायर ब्रिगेड व फारेस्ट की टीमों द्वारा आग बुझाई गई। काफी हद तक आग पर काबू कर लिया गया है। शनिवार को भी आग बुझाने के लिए वायुसेना के हेलीकॉप्टर की मदद ली जाएगी।

 

Check Also

police

Uttarakhand:: दारोगा पर महिला पटवारी से गाली गलौज करने का आरोप, डीएम ने बैठाई जांच, जानिए पूरा मामला

इंडिया भारत न्यूज डेस्क: उत्तराखंड पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर पर महिला पटवारी के साथ …