Breaking News
police
police

हैरान करने वाला मामला, डिप्टी SP को बनाया सिपाही, जानिए डिमोशन की पूरी कहानी

-सिपाही प्रेमिका के साथ होटल में पकड़े जाने पर हुई कार्रवाई

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उन्नाव से हैरान करने वाली खबर सामने आई है। यहां तैनात एक पुलिस अधिकारी का डिमोशन किया गया। उन्हें डिप्टी एसपी से सीधे कांस्टेबल बनाया गया है। अधिकारी की हरकतों के कारण पुलिस की छवि धूमिल हो रही थी। ऐसे में उनका डिमोशन कर अधिकारी से सिपाही बनाया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्नाव के सीओ बीघापुर के पद पर तैनात रहे प्रमोटी पीपीएस कृपाशंकर कनौजिया को पीएसी में सिपाही के उनके मूल पद वापस भेज दिया गया है। उन्नाव में सर्किल ऑफिसर के तौर पर काम कर रहे कृपा शंकर ने 6 जुलाई 2021 से पारिवारिक वजहों से छुट्टी मांगी थी। छुट्टी की मंजूरी मिल गई। इसके बाद कृपा शंकर लापता हो गए। उन्होंने अपना निजी और सरकारी दोनों फोन बंद कर दिए।

ऑफिस में सब यही मान रहे थे कि डिप्टी SP परिवार के साथ होंगे, लेकिन कृपा शंकर घर पर नहीं थे। इधर, उनकी पत्नी बार-बार उन्हें फोन मिला रही थीं। काफी देर तक फोन नहीं लगा तो कृपा शंकर की पत्नी ने उनके साथियों से जानकारी ली। पता चला कि वो परिवार का बहाना देकर छुट्टी पर निकल गए हैं। परेशान होकर पत्नी ने उन्नाव के SP से मदद मांगी।

कृपा शंकर को ढूंढने के लिए सर्विलांस टीम को काम पर लगाया गया। उनका फोन नंबर ट्रैक किया गया। पता चला कि कृपा शंकर का मोबाइल कानपुर के होटल में जाकर बंद हुआ था। उन्नाव पुलिस लोकेशन के हिसाब से उस होटल में पहुंची। पुलिस के मुताबिक, कृपा शंकर होटल में एक महिला सिपाही के साथ थे। सबूत के तौर पर पुलिस वीडियो बनाकर अपने साथ ले गई। दोनों के होटल में जाते हुए CCTV फुटेज भी इकट्ठा किए गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राज्य सरकार (शासन) ने पूरे मामले की जांच कराई। इसके बाद कृपा शंकर कनौजिया को रिवर्ट कर फिर से कांस्टेबल बनाने की सिफारिश की। एडीजी प्रशासन ने सीओ को सिपाही बनाने का आदेश जारी किया है।

Check Also

अल्मोड़ा के जन्मेजय अंतर्राष्ट्रीय युवा नेतृत्व शिविर में भाग लेने के लिए नॉर्थ मैसेडोनिया रवाना

अल्मोड़ा: नगर निवासी जन्मेजय तिवारी नॉर्थ मैसेडोनिया (North Macedonia) की राजधानी स्कोप्जे में इस हफ्ते …