Breaking News
water
water

दिक्कत: दिनभर खेतों में गुड़ाई.. रात में पानी ढो रहे ग्रामीण

समस्या का निस्तारण नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी

लोहाघाट। पाटी ब्लाँक के ग्राम पंचायत गागर में पिछले दो सप्ताह से भीषण पेयजल संकट गहरा गया है। लोग दिनभर खेतों में गुड़ाई कर रहे हैं और रात में ग्रामीणों को पानी ढोने को मजबूर होना पड़ रहा है। इससे ग्रामीणों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

ग्रामीणों ने बताया कि गांव के लिये करीब 20 किमी दूर केदारनाथ के नीचे गधेरे से पानी आता है। इस जगह पर पानी के तीन स्रोत्र है। लेकिन कुछ समय से दो मूल स्रोतों से पानी आना बंद हो गया है। लेकिन विभाग का कोई भी कर्मचारी अब तक वहां नहीं पहुंचा है। जिस कारण गर्मी में गावं भीषण पेयजल संकट गहरा गया है। गांव के लोग इन दिनों दिनभर खेतों में धान और मडुवे की गुड़ाई कर रहे हैं, लेकिन रातभर उन्हें नौले से पानी भरकर प्यास बुझानी पड़ रही है।इससे लोगों में विभाग के खिलाफ भारी आक्रोश पनप रहा है। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि दो दिन के भीतर गांव में पानी नहीं आया तो वह जल संस्थान कार्यालय पाटी में धरना प्रदर्शन करने को मजबूर होंगे।

हर बार 20 हजार बिल जमा करते हैं गागर के लोग

गागर गांव में वर्तमान में 53 स्पेशल पोस्ट हैं। इन पोस्टों से विभाग को एक बार में करीब 20 हजार रुपये बिल की रकम मिलती है।इसके अलावा गांव में 10 स्टेंड या सार्वजनिक पोस्ट भी हैं, इनसे अलग से बिल लिया जाता है। ग्रामीणों का आरोप है कि छह माह से विभाग ने पेयजल लाइन की मरम्मत में एक फूटी कौड़ी भी खर्च नहीं की है। ना ही आपदा में क्षतिग्रस्त लाइन की मरम्मत के लिए कोई बजट मिला।

चौकीदारों को हटाने की मांग

गांव की पेयजल लाइन की रखवाली के लिए दो चौकीदारों को रखा गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि चौकीदार भी पेयजल लाइन ठीक करने नहीं जाते हैं। इसलिये चौकीदारों को हटाकर नये युवाओं को काम पर रखने की मांग की है।

आपदा में श्रमदान कर ठीक की थी पेयजल लाइन

कुछ माह पहले आई आपदा में पेयजल लाइन टूटकर क्षतिग्रस्त हो गई थी। ग्रामीणों ने श्रमदान कर पेयजल लाइन को ठीक कर पानी सुचारू किया था। पुरानी लाइन के पाइप निकाल कर व्यवस्था बनाई थी।

Check Also

कुमाऊं में दिल दहला देने वाली वारदात, 12वीं के छात्र को चाकू से गोदा, जान बचाने को दौड़ता रहा छात्र

🔊 इस खबर को सुने इंडिया भारत न्यूज डेस्क: देवभूमि उत्तराखंड में आपराधिक घटनाओं में …