Breaking News

अल्मोड़ा: आखिर गुलदार ने खाया तो किसे खाया?… दहशत भी दुविधा भी

अल्मोड़ा: उत्तराखंड में मानव वन्यजीव संघर्ष चरम पर है। गुलदारों की रिहायशी इलाकों में आवाजाही लगातार बढ़ रही है। अल्मोड़ा जिला मुख्यालय में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। पांडेखोला क्षेत्र में सीवर लाईन निर्माण में कार्यरत एक शख्स का कहना है कि बीते दिनों लोअर माल रोड में डायट के पास उसने गुलदार को एक अज्ञात व्यक्ति को घसीटकर जंगल की ओर ले जाते देखा। जब उसने यह बात स्थानीय लोगों को बताई तो उन्होंने वन विभाग को इसकी सूचना दी। जिसके बाद वन विभाग की टीम घटनास्थल को रवाना हो गई है।

सीवर लाइन निर्माण में कार्यरत ट्रैक्टर आपरेटर सतबीर सिंह के मुताबिक, बीते 18 मई की सुबह करीब 9 बजे वह ट्रैक्टर से पांडेखोला से खोल्टा बाजार की ओर जा रहा था। एंकात रेस्टारेंट से कुछ आगे उसे गुलदार दिखाई दिया जो सफेद कमीज व नीली पैंट पहने एक व्यक्ति को घसीटकर जंगल की ओर ले गया। बाद में उसने कुछ लोगों को इसकी सूचना दी तो लोगों ने मामले को गंभीरता से न लेकर अफवाह बताया।

घटना के दो दिन बाद यानि शनिवार को प्रत्यदर्शी सतबीर सिंह ने यह मामला स्थानीय निवासी त्रिलोचन जोशी को बताया। त्रिलोचन जोशी ने तत्काल इस घटना की सूचना वन विभाग के अधिकारियों को दी। वही, त्रिलोचन जोशी का कहना है कि जिस तरह से मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाएं सामने आ रही है उससे इस मामले को अनदेखा नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा जिस क्षेत्र में यह घटना घटित होने बताई जा रही है उस क्षेत्र में गुलदार अक्सर मूवमेंट करता नजर आता है।

वन ​क्षेत्राधिकारी मोहन राम ने बताया कि कुछ घंटे पहले ही उन्हें यह सूचना मिली है। जिसके बाद सर्च आपरेशन के लिए वन विभाग की टीम को मौके पर भेजा जा रहा है।

इस मामले के सामने आने के बाद कुछ लोग इसे संभव तो कुछ भम्र मान रहे है। लेकिन प्रत्यक्षदर्शी द्वारा जो दावा किया जा रहा है उसके बाद दहशत का माहौल बन गया है।

वन विभाग ने लोगों से सतर्क रहने व सावधानी बरतने तथा रात को अंधेरे में घर से बाहर न जाने की अपील की है।

 

हमसे whatsapp पर जुड़ें
हमसे youtube पर जुड़ें

 

 

 

Check Also

अल्मोड़ा-(बड़ी खबर):: अराजक तत्वों ने शिक्षा के मंदिर में लगाई आग, ग्रामीणों की सूझ-बूझ से टला बड़ा हादसा, जानिए पूरा मामला

अल्मोड़ा। स्कूल शिक्षा का पवित्र मंदिर माना जाता है। जहां देश के भविष्य का निर्माण …