Breaking News

गर-गूठ सड़क के निर्माण को संघर्ष समिति मुखर, ग्रामीण बोले- झूठे साबित हुए अधिकारियों के आश्वासन

अल्मोड़ा: गर-गूठ सड़क निर्माण संघर्ष समिति की सोमवार को बैठक संपन्न हुई। इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि पूर्व में जिला प्रशासन द्वारा आश्वासन दिया गया था कि सड़क में सोलिग-डामरीकरण के लिए एस्टीमेट सरकार को प्रेषित किया जा रहा है। जिसका आकलन करीब 3 करोड़ 25 लाख बताया गया था। लेकिन लंबे समय तक इंतजार के बाद भी इस सड़क में किसी भी प्रकार का कार्य शुरू नहीं किया गया।

वक्ताओं ने कहा कि लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों द्वारा दिए गए आश्वासन झूठे साबित हुए है। जनता दोबारा संघर्ष करने के लिए मजबूर हो गई है। संघर्ष समिति ने तय किया कि जल्द ही जिलाधिकारी से मिलकर सड़क के बारे अवगत कराते हुए सड़क निर्माण की कार्यवाही को तेज करने की मांग की जाएगी। ग्रामीणों ने स्थानीय जनप्रतिनिधियों से आग्रह किया है कि वह इस कार्य में जनता का सहयोग दे।

 

सड़क निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष विनय किरौला ने कहा कि गर-गूठ सहित 10 गाँवो की 10 हज़ार से अधिक आबादी को जोड़ने वाली सड़क निर्माण संघर्ष समिति विकास भवन से बेस चिकित्सालय तक सड़क के निर्माण के लिए बीते एक साल से संघर्ष कर रही है। शीघ्र प्रशासन की ओर से इस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई तो संघर्ष समिति आंदोलन शुरू करते हुए क्रमिक अनशन, आमरण अनशन, प्रदर्शन, यातायात को रोकने का कार्य, सड़क जाम करेगी।

बैठक में सड़क निर्माण संघर्ष समिति के सचिव प्रकाश चंद्र, कोषाध्यक्ष श्याम सिंह, प्रचार समिति सचिव पान सिंह, कैलाश जोशी, गणेश लाल, आशीष बिष्ट, देवेंद्र बिष्ट, कमल बिष्ट, आनंद बिष्ट, प्रकाश बिष्ट, धीरज बिष्ट, हिमांशु बिष्ट, रूप सिंह, योगेश पंत, रविन्द्र सिंह, दीवान सिंह बिष्ट, राहुल बिष्ट, चंदन बिष्ट, रेवती देवी, आनंदी देवी, रूपा देवी, बसंती देवी, चंपा देवी, सीमा बिष्ट, गीता बिष्ट, पूरन सिंह, नंदी देवी आदि कई लोग मौजूद रहे।

 

हमसे whatsapp पर जुड़े

हमसे youtube पर जुड़ें

https://youtube.com/channel/UCq06PwZX3iPFsdjaIam7Di

Check Also

breaking

Road accident:: अल्मोड़ा में सड़क हादसा, यात्रियों में मची चीख पुकार, पढ़ें पूरी खबर

-आमने-सामने टक्कर में दोनों वाहनों के आगे का हिस्सा हुआ क्षतिग्रस्त अल्मोड़ा: नगर से लगे …