Breaking News
high court
high court

उत्तराखंड-(बड़ी खबर): प्राइमरी के कई सहायक अध्यापकों को हाइकोर्ट का झटका, जानिए पूरा मामला

नैनीताल। अंतरिम आदेश के आधार पर नियुक्त हुए बेसिक के कई सहायक अध्यापकों को हाइकोर्ट से झटका लगा है। हाईकोर्ट ने सहायक अध्यापक बेसिक के पदों पर हो रही भर्ती में स्नातक स्तर पर 50 प्रतिशत अंकों की बाध्यता की शर्त को चुनौती देने वाली याचिकाओं को खारिज कर दिया है। ऐसे में जिन अभ्यर्थियों की काउंसलिंग होनी थी उनका भविष्य भी अधर में लटक गया है।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश मनोज कुमार तिवारी और न्यायमूर्ति विवेक भारती शर्मा की खंडपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई। इस मामले मे नीतू पाठक सहित कई अन्य ने
हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी।

2019 में हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को अंतरिम राहत प्रदान करते हुए प्रक्रिया में शामिल होने का अवसर प्रदान किया था। जिसके आधार पर कई अभ्यर्थी सहायक अध्यापक प्राइमरी के पद पर नियुक्त भी हो गए थे। कुछ पदों पर काउंसलिंग अभी होनी थी।

हाईकोर्ट में इस आधार पर खारिज की गई याचिकाएं

कुछ महीने पहले सुप्रीम कोर्ट ने देवेश शर्मा बनाम भारत संघ में यह घोषित कर दिया था कि सहायक अध्यापक प्राइमरी के पद के लिए सिर्फ बीएड की योग्यता को आधार नहीं बनाया जा सकता। सुप्रीम कोर्ट में नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजूकेशन का इस संबंध में जारी नोटिफिकेशन भी निरस्त कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर याचिकाकर्ताओं के मामले में अंतिम सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट की खंडपीठ ने कहा कि जब बीएड की अर्हता को ही सहायक अध्यापक की अनिवार्य योग्यता से सुप्रीम कोर्ट में हटा दिया है ऐसे में स्नातक में 50 प्रतिशत अंक होना या न होना इस शर्त पर विचार करने का अब कोई महत्व नहीं रहेगा। इसी आधार पर हाईकोर्ट ने सभी अभ्यर्थियों की याचिकाएं खारिज कर दी।

 

हमसे whatsapp पर जुड़े

हमसे youtube पर जुड़ें

https://youtube.com/channel/UCq06PwZX3iPFsdjaIam7Di

Check Also

binsar accident

बिनसर हादसा:: मृतकों व घायलों के परिजनों से मिली कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य, जानिए मंत्री ने क्या कहा

अल्मोड़ा: बिनसर में बीते दिनों हुए दर्दनाक हादसे के बाद मृतकों के गांव में मातम …