Breaking News

अल्मोड़ा-(बड़ी खबर): DM की फोटो लगे फर्जी व्हाट्सएप नंबर से अधिकारियों के पास आए मैसेज, मचा हड़कंप

अल्मोड़ा। साइबर अपराधी ठगी करने के लिए नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। साइबर ठगों के हौसले इतने बुलंद हो चुके है कि अब वह शीर्ष अधिकारियों के नाम का उपयोग करने में भी नहीं हिचकिचा रहे है। ताजा मामला अल्मोड़ा जिले की शीर्ष अधिकारी से जुड़ा है। साइबर अपराधियों ने जिलाधिकारी के पद नाम से फर्जी व्हाट्सएप अकाउंट बना डाला। जिसके बाद​ जिले के कई अधिकारियों व कर्मचारियों को मैसेज भी किए। अचानक अपने व्हाट्सप नंबर में जिलाधिकारी का मैसेज देख अधिकारी चौक पड़ें। इस मामले से प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है।

मामले की भनक जब जिलाधिकारी वंदना को लगी तो उन्होंने तत्काल सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को अलर्ट मैसेज करवाया और सभी से इस तरह के मैसेज पर ध्यान न देने व इसका कोई जवाब न देने को कहा है।

दरअसल, गुरुवार को +234-9038410877 नंबर से, जिसकी डी.पी में जिलाधिकारी तथा किसी अन्य की फोटो प्रदर्शित हो रही है और जिलाधिकारी का नाम भी ​दिख रहा है। इस नंबर से जिले के कुछ अधिकारियों के पास मैसेज आए। अचानक डीएम का मैसेज देख अधिकारी सकते में आ गए। इसकी जानकारी जब डीएम तक पहुंची तो हकीकत सामने आई। जिला प्रशासन द्वारा मामले की जानकारी पुलिस विभाग को दे दी गई है।

ये भी पढें

उत्तराखंड-(बड़ी खबर): सिपाही से मारपीट के आरोप में SSJ कैंपस के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष समेत 4 लोगों पर मुकदमा, ​जानें पूरा मामला

इधर मामला सामने आने के पुलिस महकमे में भी हड़कंप मचा हुआ है। कोतवाल राजेश कुमार यादव ने बताया कि इस मामले की मौखिक सूचना उन्हें मिली है। फिलहाल तहरीर नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि मामले में जानकारी जुटाई जा रही है।

बताते चले कि जिले में साइबर ठगों ने इससे पहले भी एक बड़े संस्थान के ​अधिकारी के नाम का दुरुप्रयोग करने का प्रयास किया था। इसके अलावा राजनीतिक, सामाजिक क्षेत्रों से जुड़े लोगों के अलावा कई अन्य व्यक्तियों के फेसबुक अकाउंट हैक करने के कई मामले पहले भी प्रकाश में आ चुके है।

खबर लिखे जाने तक इस मामले में जिलाधिकारी का पक्ष नहीं मिल पाया। जिलाधिकारी का पक्ष मिलते ही उसे इस खबर में जोड़ा जाएगा।

Check Also

जीआईसी लोधिया में PTA-SMC का हुआ गठन, राजेंद्र व हरीश अध्यक्ष पद पर हुए मनोनीत

अल्मोड़ा: नगर से लगे राजकीय इंटर कालेज लोधिया में विद्यालय प्रबंधन समिति (SMC) तथा शिक्षक-अभिभावक …